पाकिस्तान को विशेष राष्ट्र का दर्जा समाप्त करने, सिंधु नदी जल समझौता रद्द करने और पाक अधिकृत कश्मीर स्थित आतंकी प्रशिक्षण शिविरों को ध्वस्त करने की मांग।

२६ सितम्बर २०१६

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री,
भारत सरकार।

विषयः-पाकिस्तान को विशेष राष्ट्र का दर्जा समाप्त करने, सिंधु नदी जल समझौता रद्द करने और पाक अधिकृत कश्मीर स्थित आतंकी प्रशिक्षण शिविरों को ध्वस्त करने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात है कि पाकिस्तान आतंकवाद व आतंक का पूरे विश्व में सबसे बड़ा उत्पादक व निर्यातक देश है। पाकिस्तान न केवल भारत में आतंकियों की घुसपैठ करा रहा है, बल्कि भारत के विरूद्ध छद्म युद्ध लड़ रहा है। हमें पाकिस्तान को सबक सिखाना ही पडेगा, अन्यथा भारत से आतंकवाद को समाप्त नहीं कर सकते हैं। भारत से आतंकवाद को समाप्त करने के लिये निम्नलिखित निर्णय तुरन्त लेंः-
1. भारत द्वारा पाकिस्तान को दिया गया विशेष राष्ट्र का दर्जा शीघ्र समाप्त किया जाये।
2. तत्कालीन प्रधानमंत्री पं0 जवाहरलाल नेहरू द्वारा पाकिस्तान के साथ किये गये ंिसंधु नदी जल संधि को तुरन्त निरस्त किया जाये।
3. पाक अधिकृत कश्मीर स्थित आतंकियों के प्रशिक्षण पर आक्रमण कर तुरन्त ध्वस्त किया जाये।
4. सिंध बलूचिस्तान, पख्तून आदि क्षेत्रांे के लोगों द्वारा पाकिस्तान से स्वंतत्रता की मांग का समर्थन भारत सरकार द्वारा किया जाये।
5. विश्व स्तर पर जागरूकता लाकर पाकिस्तान को संयुक्त राष्ट्रसंघ द्वारा आतंकी राष्ट्र घोषित कराया जाये।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी)
राष्ट्रीय कार्यालमंत्री

अयोध्या स्थित श्रीराम जन्मभूमि के मुकदमे की सुनवाई त्वरित गति से करने हेतु प्रार्थना पत्र।

२२ सितम्बर २०१६

प्रतिष्ठा में,
न्यायमूर्ति श्री तीरथ सिंह ठाकुर जी,
माननीय मुख्य न्यायाधीश
भारत का उच्चतम न्यायालय,
नई दिल्ली।

विषयः-अयोध्या स्थित श्रीराम जन्मभूमि के मुकदमे की सुनवाई त्वरित गति से करने हेतु प्रार्थना पत्र।

महोदय,
हम प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी से बार-बार मांग कर रहे हैं कि मंदिर निर्माण के लिये संसद में विशेष कानून बनाया जाये। जिस प्रकार संसद में विशेष कानून बनाकर सरदार बल्लभ भाई पटेल और पं0 जवाहर लाल नेहरू ने सोमनाथ मंदिर का निर्माण कराया था, उसी तर्ज पर विशेष कानून बनाकर अयोध्या में श्रीराम जन्मस्थान पर भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण कराया जाये। परन्तु पिछले ढाई वर्षों से मोदी जी देश के 100 करोड़ हिन्दुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहें हैं। 2014 लोकसभा चुनाव से पूर्व भाजपा ने सŸाा में आते ही राम मंदिर बनाने का वादा देशवासियों से किया था। हिन्दू महासभा ने केन्द्र सरकार से बार-बार यह भी अनुरोध किया है कि उच्चतम न्यायालय में मुकदमे की सुनवाई त्वरित गति से हो, ताकि शीघ्र निर्णय हो सके। परन्तु ऐसा भी नहीं किया गया। आपसे अनुरोध है कि हिन्दू महासभा के महान नेताओं की इच्छा की पूर्ति एवं 100 करोड़ हिन्दुओं की भावनाओं की रक्षा के लिये अयोध्या के श्रीराम जन्मस्थान के मालिकाना अधिकार देने के मुकदमे की सुनवाई त्वरित गति से करें ताकि देश के लोगों को शीघ्र न्याय मिल सके।

सादर
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक)
राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा )
राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी)
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

उड़ी सैन्य मुख्यालय के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि प्रधानमंत्री कार्रवाई करें या त्यागपत्र दें-हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 19 सितम्बर 2016

उड़ी सैन्य मुख्यालय के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि प्रधानमंत्री कार्रवाई करें या त्यागपत्र दें-हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक, राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा एवं राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेश त्यागी ने भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मांग की है कि उड़ी हमले के दोषी आतंकी गिरोहों, उसके आकाओं व उसके संरक्षक पाकिस्तान पर कड़ी कार्रवाई करें। उन्होंने मांग की है कि भारत सरकार पाक अधिकृत कश्मीर स्थित आतंकियों के प्रशिक्षण शिविरों पर कार्रवाई कर उसे ध्वस्त करे तथा भारत में आतंकियों के घुसपैठ को पूर्ण रूप से रोके। हिन्दू महासभा नेताओं ने नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा है कि प्रधानमंत्री मोदी ने 2014 लोकसभा चुनाव से पूर्व देश को आतंकवाद से मुक्त करने तथा पाकिस्तान को सबक सिखाने का भरोसा दिया था। परन्तु न तो आतंकवाद समाप्त हुआ और न ही पाकिस्तान पर कोई कार्रवाई हुई। हिन्दू महासभा नेताओं ने आरोप लगाया है कि केन्द्र की राजग सरकार की कमजोर नीतियों के कारण आतंकी गिरोहों तथा उसके आका पाकिस्तान और आईएसआई का मनोबल लगातार बढ़ता जा रहा है। केन्द्र सरकार की ढुलमुल कश्मीर नीतियों के कारण सीमा पार से घुसपैठ में बढ़ोŸारी हुई है तथा आतंकी घटनाएं बढ़ी हैं। उड़ी सैन्य मुख्यालय पर हमला एक सामान्य आतंकी घटना नहीं, बल्कि भारत पर हमला है। इसे हिन्दू महासभा बर्दाश्त नहीं करेगी। अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा है कि यदि प्रधानमंत्री मोदी आतंक को समाप्त नहीं कर सकते, सीमा पार घुसपैठ को नहीं रोक सकते तो अपने पद से त्यागपत्र दें।
वहीं आज दिल्ली स्थित हिन्दू महासभा मुख्यालय में उड़ी सैन्य मुख्यालय में हुए आतंकी हमले के शहीद सैनिकों को श्रद्धांजलि अर्पित की गई। हिन्दू महासभा नेताओं ने उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए कहा कि यह देश के लिये दुखद क्षण है। हमें ऐसी घटनाओं को रोकना होगा। सैनिकों की हत्याओं को देश बर्दाश्त नहीं करेगा। हिन्दू महासभा नेताओं ने मांग की है कि मृतक सैनिकों के आश्रितों को आर्थिक सहायता, मकान व सरकारी नौकरी तुरन्त दी जाये।

(वीरेश त्यागी)
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

श्रीराम जन्मस्थान पर हिन्दू महासभा 11 नवम्बर को मंदिर निर्माण का कार्य शुरू करेगी-हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 17 सितम्बर 2016

श्रीराम जन्मस्थान पर हिन्दू महासभा 11 नवम्बर को मंदिर निर्माण का कार्य शुरू करेगी-हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक एवं राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने एक संयुक्त वक्तव्य के द्वारा घोषणा किया है कि अयोध्या स्थित श्रीराम जन्मस्थान पर अखिल भारत हिन्दू महासभा 11 नवम्बर को मंदिर निर्माण का कार्य शुरू करेगी। 11 नवम्बर को निर्माण कार्य शुरू होने के बाद मंदिर निर्माण पूर्ण होने तक निर्माण कार्य की प्रकिया चलती रहेगी। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा कि हम प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बार-बार मांग कर रहे हैं कि मंदिर निर्माण के लिये संसद में विशेष कानून बनाया जाये। जिस प्रकार संसद में विशेष कानून बनाकर सरदार बल्लभ भाई पटेल ने सोमनाथ मंदिर का निर्माण कराया था, उसी तर्ज पर विशेष कानून बनाकर अयोध्या में श्रीराम जन्मस्थान पर भव्य श्रीराम मंदिर का निर्माण कराया जाये। परन्तु पिछले ढाई वर्षों से मोदी जी देश में हिन्दुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ कर रहें हैं। 2014 लोकसभा चुनाव से पूर्व भाजपा ने सŸा में आते ही राम मंदिर बनाने का वादा देशवासियों से किया था। परन्तु अब भाजपा उस वादे को भूल गई। हिन्दू महासभा ने बार-बार यह भी अनुरोध किया कि उच्चतम न्यायालय में मुकदमे की सुनवाई त्वरित गति से हो, ताकि शीघ्र निर्णय हो सके। परन्तु ऐसा भी नहीं किया गया। इसलिये हिन्दू महासभा के महान नेताओं की इच्छा की पूर्ति एवं 100 करोड़ हिन्दुओं की भावनाओं की रक्षा के लिये अखिल भारत हिन्दू महासभा 11 नवम्बर को श्रीराम जन्मस्थान पर भव्य मंदिर के निर्माण का कार्य शुरू करेगी।

मुन्ना कुमार शर्मा
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः 09312177979

मंत्री तेजप्रताप को बर्खास्त करें नीतिश, अपराधी शहाबुद्दीन की जमानत रद्द कराने शीघ्र उच्चतम न्यायालय जाये बिहार सरकार-हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 14 सितम्बर 2016

मंत्री तेजप्रताप को बर्खास्त करें नीतिश, अपराधी शहाबुद्दीन की जमानत रद्द कराने शीघ्र उच्चतम न्यायालय जाये बिहार सरकार-हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक, राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा एवं राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेश त्यागी ने पत्रकार राजदेव रंजन की हत्या के आरोपी शार्प शूटर मोहम्मद कैफ के खुलेआम घूमने की तीव्र निन्दा की है। उन्होंने कैफ की शीघ्र गिरफ्तारी की मांग करते हुए कहा है कि राज्य सरकार पूर्व सांसद मोहम्मद शहाबुद्दीन तथा राज्य सरकार में मंत्री तेजप्रताप यादव पर कड़ी कार्रवाई करे। उन्होंने कहा कि हत्या के आरोपी का राज्य सरकार के मंत्री तथा पूर्व सांसद के साथ खुलेआम घूमना राजनीतिक निर्लज्जता का एक उदाहरण है। साथ ही इससे राज्य सरकार की नपुंसकता भी उजागर होती है। एक पत्रकार के हत्यारे का मंत्री तथा पूर्व सांसद के साथ खुलेआम घूमना राज्य सरकार के लिये कलंक की बात है। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपने मंत्रिपरिषद के सदस्य तेजप्रताप यादव को राज्य मंत्रिपरिषद से बर्खास्त करें तथा तेजप्रताप और मो0 शहाबुद्दीन पर मुकदमा दर्ज किया जाये। हिन्दू महासभा नेताओं ने बिहार के मुख्यमंत्री से यह भी मांग की है कि कई दर्जन अपराधों को अजाम देने वाले मोहम्मद शहाबुद्दीन की जमानत को रद्द कराने के लिये बिहार सरकार को तुरन्त उच्चतम न्यायालय की शरण मेें जाना चाहिए। शहाबुद्दीन जैसे अपराधी के जमानत पर छूटने से बिहार राज्य में अपराध की घटनाएं बढे़ंगी तथा नीतीश कुमार के सुशासन का पोल खुलेगा।

वीरेश त्यागी
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

दिल्ली के उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री तथा मंत्री बर्खास्त हों-हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 13 सितम्बर 2016

दिल्ली के उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री तथा मंत्री बर्खास्त हों-हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक एवं राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने दिल्ली में डेंगू तथा चिकनगुनिया के रोगियों की बढ़ती समस्याओं पर चिन्ता प्रकट किया है तथा उनके लिये दिल्ली सरकार द्वारा किये जा रहे न के बराबर प्रयासों पर गुस्सा प्रकट किया है। उन्होंने कहा है कि दिल्ली में डेंगू, चिकनगुनिया आदि बीमारियों के कारण महामारी फैल रही है। परन्तु दिल्ली सरकार तथा केन्द्र सरकार में से किसी को भी इसकी चिन्ता नहीं है। रोगियों की चिकित्सा कराने की जगह दिल्ली के उपराज्यपाल नजीब जंग, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरबिन्द केजरीवाल तथा मंत्री विदेश तथा अन्य राज्यों के दौरों पर हैं। उन्हें दिल्ली की जनता के दुख-दर्द की कोई चिन्ता नहीं है। ऐसे में उन्हें अपने-अपने पदों से त्यागपत्र दे देना चाहिए। यदि ये लोग त्यागपत्र न दें तो राष्ट्रपति महोदय उन्हें बर्खास्त करें। नौंटकी अब ज्यादा दिनों तक चलने वाली नहीं है। दिल्ली की जनता इनकी नौंटकी समझ चुकी है। आने वाले समय में इन सभी लोगों को जनता सबक सिखायेगी। केन्द्र की सरकार दिल्ली सरकार को दोषी बताती है। जबकि दिल्ली सरकार काम नहीं होने की ठीकरा केन्द्र सरकार पर फोड़ती है। एक-दूसरे पर आरोप लगाने से दिल्ली की जनता का कोई भला होने वाला नहीं है। हिन्दू महासभा के नेताओं ने कहा है कि महामहिम राष्ट्रपति निर्णय लंे तथा दिल्ली की जनता के हित में दिल्ली के उपराज्यपाल, मुख्यमंत्री तथा मंत्रिपरिषद को बर्खास्त करें।

मुन्ना कुमार शर्मा
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः9312177979

बकरा ईद के अवसर पर बकरों एवं अन्य पशुओं की बलि पर पूर्ण रूप से रोक लगाने की मांग।

12-09-2016

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृहमंत्री
भारत सरकार।

विषयः- बकरा ईद के अवसर पर बकरों एवं अन्य पशुओं की बलि पर पूर्ण रूप से रोक लगाने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात हो कि ईद उल जुहा बकरा ईद कल 13 सितम्बर, 2016 को है। जिसमें न केवल करोड़ो पशुओं का खून बहाकर पवित्र युमना नदी को प्रदूषित किया जायेगा बल्कि इससे डेंगू जैसी महामारी फैलने का गम्भीर खतरा पैदा हो गया है। क्योंकि बकरा ईद के पशुओं का खून बरसात के इस मौसम में नालियों के द्वारा बहकर मच्छरों के संवर्धन में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा। जैसा कि पिछले साल बकरा ईद के बाद डेंगू के महाप्रकोप का महामारी का रूप लेने से साबित हो चुका है। इसी के साथ नालियों के जरिये यमुना मैया तक जाने वाला यह खून मक्खियों के प्रजनन ओर संवर्धन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा जिससे हैजा, पेचिश जैसी महामारियां फैलकर हजारों लोगों की बीमारी का कारण बनेगी और काफी लोगों को अकाल मौत भी देगी।
आपसे निवेदन है कि इस मामलें में संज्ञान लेकर बकरा ईद के दिन बकरा एवं अन्य पशुओं की बलि पर पूर्ण रूप से रोक लगाने की कृपा करें।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक)
राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव

राष्ट्रीय हरित अधिकरण के अध्यक्ष श्री स्वतन्त्र कुमार जी द्वारा धार्मिक आधार पर भेदभाव करने की सूचना व बकरा ईद के अवसर पर बकरों एवं अन्य पशुओं की बलि पर पूर्ण रूप से रोक लगाने हेतु सादर अनुरोध।

10-09-2016

प्रतिष्ठा में,
महामहिम न्यायमूर्ति श्री तीरथ सिंह ठाकुर जी,
प्रधान न्यायाधीश
भारत का उच्चतम न्यायालय,
नई दिल्ली।

विषयः-राष्ट्रीय हरित अधिकरण के अध्यक्ष श्री स्वतन्त्र कुमार जी द्वारा धार्मिक आधार पर भेदभाव करने की सूचना व बकरा ईद के अवसर पर बकरों एवं अन्य पशुओं की बलि पर पूर्ण रूप से रोक लगाने हेतु सादर अनुरोध।

मान्यवर,
हम आपकी जानकारी में ला रहे हैं कि राष्ट्रीय हरित अधिकरण के अध्यक्ष श्री स्वतन्त्र कुमार जी प्रदूषण के मामले में फैसले देने और उन्हें लागू करने में धार्मिक आधार पर भेदभाव करते हैं और सबसे पहले यह देखते हैं कि प्रदूषण फैलाने वाले हिन्दू हैं, मुसलमान हैं या ईसाई।

महोदय, हमें बडे़ दुःख के साथ कहना पड़ रहा है कि राष्ट्रीय हरित अधिकरण हिन्दूद्रोहियों और नक्सलवादियों का संरक्षण कर रहा है। हम आपकी जानकारी में ला रहें हैं कि यह वही हरित अधिकरण है जिसनें हिन्दुओं के फूल और मूर्ति विर्सजन को प्रदूषणकारी बताकर सन्तों और महात्माओं की डण्डों से पिटाई भी करवायी। हरित अधिकरण ने हिन्दुओं के शवदाह को प्रदूषणकारी घोषित किया है और दीवाली के पटाखों को भी प्रदूषणकारी बताने के लिये एक याचिका पर पिछले साल से लगातार सुनवायी कर रहा है।

दूसरी ओर इसी हरित अधिकरण ने पिछले साल सुनवायी करके बकरा ईद पर दिये अपने ही फैसले में आदेश दिया था कि ‘‘काटे जा रहे पशुओं का खून सीधे यमुना नदी में न जाने दिया जाये‘‘। किन्तु अब इस आदेश को लागू कराने पर चुप्पी साध रखी है। क्यों कि यह मुस्लिमों द्वारा फैलाया जा रहा प्रदूषण का मसला हैघ् इसी के साथ गत वर्ष जब कुछ हिन्दू संगठनों ने अत्यधिक प्रदूषित कश्मीरी गेट बस अड्डे दिल्ली से सटे निकल्सन ईसाई कब्रिस्तान में 100-200 साल पुरानी अंग्रेजों की कब्रों से बड़े-बड़े पत्थर हटाकर वहां नीम और पीपल के
पेड़ लगाकर इस इलाके का प्रदूषण कम करने और पेड़-पौधों के प्राकृतिक रूप से संवर्धन करने की याचिका लगायी तो हरित अधिकरण के न्यायाधीश महोदय को सांप सूघ गया और हरित अधिकरण में मौत का सन्नाटा पसर गया।
महोदय, ईद उल जुहा बकरा ईद इसी 13 सितम्बर, 2016 को है। जिसमें न केवल करोड़ो पशुओं का खून बहाकर पवित्र युमना नदी को प्रदूषित करेगा बल्कि इससे डेंगू जैसी महामारी फैलने का गम्भीर खतरा पैदा हो गया है क्यों कि बकरा ईद के पशुओं का खून बरसात के इस मौसम में नालियों के द्वारा बहकर मच्छरों के संवर्धन में सबसे महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा। जैसा कि पिछले साल बकरा ईद के बाद डेंगू के महाप्रकोप का महामारी का रूप लेने से साबित हो चुका है। इसी के साथ नालियों के जरिये यमुना मैया तक जाने वाला यह खून मक्खियों के प्रजनन ओर संवर्धन में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभायेगा जिससे हैजा, पेचिष जैसी महामारियां फैलकर हजारों लोगों की बीमारी का कारण बनेगी और काफी लोगों को अकाल मौत भी देगी।
आपसे सविनय निवेदन है कि इस मामलें में स्वतः संज्ञान लेकर या हमारी पत्र याचिका को ही याचिका मानकर बकरा ईद के दिन बकरा एवं अन्य पशुओं की बलि पर पूर्ण रूप से रोक लगाने की कृपा करें।
इस पत्र याचिका (स्मजजमत च्मजपजपवद) पर त्वरित सुनवायी करके आप न्यायालय के प्रति आदर भाव रखने वाली देश की जनता को न्याय प्रदान करने की कृपा करें।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
अखिल भारत हिन्दू महासभा
फोनः 09312177979

वैदिक शिक्षा बोर्ड के गठन की आवश्यकता।

09-09-2016

प्रतिष्ठा में,
श्री प्रकाश जावड़ेकर जी,
माननीय मानव संसाधन विकास मंत्री,
भारत सरकार,
शास्त्री भवन,डाॅक्टर राजेन्द्र प्रसाद मार्ग, नई दिल्ली-110001

विषयः-वैदिक शिक्षा बोर्ड के गठन की आवश्यकता।

महोदय,
हिन्दुस्तान में वैदिक शिक्षा बोर्ड बनाना अब इसलिए आवश्यक हो गया है कि देश में अनेक गुरूकुल और वेद विद्यालय हैं, जो देश के अनेक नगरों में संचालित हैं, इसलिए वैदिक शिक्षा बोर्ड बन जाने से वेद विद्यालयों के संगठन, शिक्षा व्यवस्था, परीक्षा व्यवस्था और बटुकों के रहन-सहन के स्तर में भी सुधार आदि के कार्य हो सकेंगे। उल्लेखनीय है कि देश में मदरसा शिक्षा बोर्ड है, नबी के जन्मदिन की छुट्टी सारे देश में होती है, किन्तु श्री कृष्ण जन्माष्टमी, श्री राम नवमी, महाशिवरात्रि आदि की छुट्टियां अनेक बैंकों में नहीं होती और अनेक राज्य सरकारें इन महापर्वों की छुट्टियां नहीं करती। यह उल्लेख प्रसंगवश किया गया है। कदाचित् आप इस मामले में गृह मंत्रालय को लिखकर उनके दायित्व का बोध कराना चाहेंगें।
वैदिक शिक्षा बोर्ड का गठन आपकी देश की धर्मप्राण जनता के लिए एक विशेष भेंट होगी। विचार करके शीघ्र निर्णय लेने की कृपा करें। इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव

पुलिस बलों में महिला पुलिसकर्मियों के पोशाक में पैंट-शर्ट का प्रयोग शालीनता के विरूद्ध।

09-09-2016

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृहमंत्री,
भारत सरकार,
नाॅर्थ ब्लाॅक, नई दिल्ली-110001

विषयः-पुलिस बलों में महिला पुलिसकर्मियों के पोशाक में पैंट-शर्ट का प्रयोग शालीनता के विरूद्ध।

महोदय,
देश के विभिन्न पुलिस बलों में जो महिलाकर्मी/अधिकारी हैं, उनकी भी पुरूषों की तरह पैंट-शर्ट की पोशाक है। इसके पीछे कुछ छद्म बुद्धिजीवी यह तर्क दे सकते हैं कि पैंट-शर्ट की पोशाक से कार्यकुशलता बनी रहती है और चुस्ती भी रहती है।
परन्तु यह तर्क इसलिए लचर है कि देशी सलवार और कुर्ता ये दोनों चुस्ती के मापदंड हैं। देश के अनेक खेल के मैदानों में स्त्रियां और लड़कियां इन पोशाकों में फुटबाॅल, हाॅकी, वाॅलीबाॅल और बैडमिंटन आदि खेलती हैंै। धोती/साड़ी और जम्फर में यह कठिन होता है। सलवार और कुर्ता ये दोनों भद्रता और शालीनता के रखवाले है। पुलिस में पोशाक का रंग वही हो सकता है, जो सामान्य पुलिस पुरूष पोशाक का होता है। सलवार और कुर्ते में अनेक साइज भी रखने की आवश्यकता कम है, जबकि पैट-शर्ट में प्रत्येक स्त्री के लिय सामान्यतः अलग-अलग नाप की पोशाक आवश्यक है। हिन्दुस्तान की संस्कृति के हिसाब से भी स्त्रियों के लिये पैंट-शर्ट की पोशाक उचित प्रतीत नहीं होती और उनके लिए असुविधाजनक भी है।
यह देखा गया है कि पाकिस्तान की महिला पुलिस की पोशाक भी सलवार और कुर्ता है। अनेक अरब देशों की महिला पुलिस की पोशाक यूरोपीय प्रकार की पैंट-शर्ट नहीं है।
निवेदन है कि इस संबंध में यथाशीघ्र विचार करके शीघ्र निर्णय लेने की कृपा करें,
क्योंकि अभी तो समय को देखते हुए बदलाव संभव है। इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शमा)
राष्ट्रीय महासचिव