अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के लिये हिन्दुओं को बदनाम करने वाले कमल हासन का हिन्दू करेंगे बहिष्कारः हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 06 नवम्बर 2017

अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के लिये हिन्दुओं को बदनाम करने वाले कमल हासन का हिन्दू करेंगे बहिष्कारः हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने हिन्दू आतंकवाद का नाम लेकर हिन्दुओं को बदनाम करने के लिये सिने अभिनेता व निर्माता कमल हासन की तीव्र निन्दा की है तथा कहा है कि तमिलनाडु सहित पूरे देष के हिन्दू कमल हासन का बहिष्कार करेंगे। उन्होंने कहा कि हासन शीघ्र ही राजनैतिक पार्टी गठित करने वाले हैं इसलिये अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के उदेष्य से राष्ट्रवादी विचारधारा के लिये समर्पित हिन्दू समाज को बदनाम कर रहे हैं। श्री शर्मा ने कहा कि अल्पसंख्यक मतों के बल पर तमिलनाडु की सŸा प्राप्त करने का हासन का सपना हिन्दू समाज चूर-चूर कर देगी। श्री शर्मा ने कहा कि हासन अब फिल्मों से पिट चुके हैं। उनकी फिल्में अब चलती नहीं है। इसलिये अब वे राजनीति में नया रोजगार प्राप्त करना चाहते हैं। परन्तु हासन को यह ज्ञात होना चाहिए कि कोई पार्टी 15-20 प्रतिषत अल्पसंख्यक मतों के बल पर सŸा में नहीं आ सकती है। सŸा प्राप्ति के लिये 80-85 प्रतिषत हिन्दुओं का मत प्राप्त करना आवष्यक है। उन्होंने कहा कि 10-15 प्रतिषत वाले अल्पसंख्यक समाज कांग्रेस द्रमुक, अन्नाद्रमुक, कम्युनिष्ट पार्टी में से किसे वोट देंगे? उन्होंने कहा कि अल्पसंख्यक तुष्टीकरण के कारण ही कांग्रेस का सफाया हुआ है। हासन को कांग्रेस के सफाये से सबक लेना चाहिए। श्री शर्मा ने कहा कि अल्पसंख्यक तुष्टीकरण करने वाले केरल के मुख्यमंत्री पिनराई विजयन, कांग्रेस सांसद शषि थरूर का भी हिन्दू समाज बहिष्कार करेगी।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः9312177979

धार्मिक व आध्यात्मिक क्षेत्र मथुरा, गोवर्धन, गोकुल एवं नंदगांव सहित संपूर्ण ब्रज क्षेत्र को पवित्र तीर्थस्थल घोषित करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री आदित्यनाथ योगी जी,
माननीय मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश

विषय :-धार्मिक व आध्यात्मिक क्षेत्र मथुरा, गोवर्धन, गोकुल एवं नंदगांव सहित संपूर्ण ब्रज क्षेत्र को पवित्र तीर्थस्थल घोषित करने की मांग।
महोदय,
वृंदावन तथा बरसाना को पवित्र तीर्थस्थल घोषित करने के आपके निर्णय की भूरि-भूरि प्रषंसा करता हूं। यह एक सराहनीय कदम है। परन्तु इसका तब तक विषेष लाभ नहीं होगा, जब तक कि मथुरा, गोवर्धन, गोकुल एवं नंदगांव सहित पूरे ब्रज क्षेत्र को पवित्र तीर्थस्थल घोषित नहीं किया जाये। ब्रज क्षेत्र की धार्मिक एवं आध्यत्मिक पवित्रता एवं महत्व से आप पूर्णतः परिचित हैं। आपसे अपेक्षा भी है कि इन तीर्थ स्थलों का विकास एवं संरक्षण आपके नेतृत्व में होगा। ब्रज क्षेत्र को पवित्र तीर्थस्थल बनाने से इस क्षेत्र में मांसाहार व शराब की बिक्री पूर्णतः बंद हो जायेगी। दूसरे राज्यों में कई क्षेत्रों को पवित्र तीर्थस्थल घोषित किया गया है।
अतः आपसे अनुरोध है कि धार्मिक व आध्यात्मिक क्षेत्र मथुरा, गोवर्धन, गोकुल, नंदगांव सहित पूरे ब्रज क्षेत्र को पवित्र तीर्थस्थल घोषित कर इन क्षेत्रों का पूर्ण विकास एवं संरक्षण किया जाये।
सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाष कौषिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव

(वीरेष त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

लव जेहाद द्वारा हिन्दू युवतियों का धर्मांतरण कराने वाली मुस्लिम संस्था पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर तुरन्त प्रतिबंध लगेः हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 02 नवम्बर 2017

लव जेहाद द्वारा हिन्दू युवतियों का धर्मांतरण कराने वाली मुस्लिम संस्था पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर तुरन्त प्रतिबंध लगेः हिन्दू महासभा
अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया सहित कई मुस्लिम संस्थाओं द्वारा लव जेहाद के माध्यम से बडे़ पैमाने पर हिन्दू युवतियों का मुस्लिम युवकों से विवाह कराने व उसका धर्मांतरण कराने की घटनाओं पर चिंता प्रकट किया है तथा भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व गृह मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर लव जेहाद को बढ़ावा देने वाली तथा हिन्दू युवतियों को बहला-फुसलाकर मुस्लिम युवकों से विवाह कराने व धर्मांतरण कराने वाला पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया एवं अन्य मुस्लिम संस्थाओं पर तत्काल प्रतिबंध लगाया जाये तथा इस घृणित कार्य में सक्रिय आंतकियों, अपराधियों व अन्य लोगों पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा चलाकर कड़ी कार्रवाई की जाये। हिन्दू महासभा नेता श्री शर्मा ने पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया तथा कई अन्य मुस्लिम संस्थाओं पर लव जेहाद के द्वारा हिन्दू लड़कियों को नरक में धकेलने, उसका धर्मांतरण कराने, आईएसआईएस में भर्ती कराकर सेक्स गुलाम बनाने का आरोप लगाया है। उन्होंने आरोप लगाया है कि आईएसआईएस, जमात-उद-दावा, जैष-ए-मुहम्मद तथा अन्य मुस्लिम संस्थाओं द्वारा लव जेहाद के माघ्यम से हिन्दू युवतियों को जाल में फंसा कर मुस्लिम युवकों से विवाह कराने, उसका धर्मांतरण कराने व बच्चे पैदा करने की मषीन बनाने के उदेष्य से बड़ी मात्रा में धन उपलब्ध कराया जा रहा है। हिन्दू युवतियों को फंसाने के लिये मुस्लिम युवकों को 5 लाख से 10-15 लाख तक का पुरस्कार दिया जाता है। हिन्दू महासभा नेता मुन्ना कुमार शर्मा ने भारतीय प्रधानमंत्री व गृह मंत्री से धर्मांतरण व लव जेहाद पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की मांग की है।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः9312177979

धर्मांतरण और लव जेहाद पर पूरी तरह से पाबंदी लगाने व मुस्लिम संस्था पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर प्रतिबंध लगाने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार
साउथ ब्लॉक, नई दिल्ली-110011

विषयः धर्मांतरण और लव जेहाद पर पूरी तरह से पाबंदी लगाने व मुस्लिम संस्था पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया पर प्रतिबंध लगाने की मांग।

महोदय,

कृपया केरल सहित पूरे देष में पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया और अन्य मुस्लिम संस्थाओं द्वारा हिन्दुओं के धर्मांतरण व लव जेहाद का संज्ञान लेने की कृपा करें। केरल के लव जेहाद के एक मामले में उच्चतम न्यायालय के आदेष पर राष्ट्रीय जांच एजेंसी द्वारा की गई जांच से स्पष्ट हो चुका है कि पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया तथा कई अन्य मुस्लिम संस्थाओं द्वारा केरल सहित भारत के अन्य क्षेत्रों में लव जेहाद के द्वारा हिन्दू लड़कियों का धर्मांतरण कराकर आईएसआईएस में भर्ती कराने का कार्य चल रहा है। विदेष संस्थाआें व आतंकी समूहों द्वारा लव जेहाद के माध्यम से हिन्दू युवतियों का मुस्लिम युवकों से विवाह कराकर धर्मांतरण कराने के लिये पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया अन्य मुस्लिम सस्थाओं व मदरसों को धन उपलब्ध कराया जा रहा है।
आपसे अनुरोध है कि धर्मांतरण और लव जेहाद पर पूरी तरह से पाबंदी लगायी जाये तथा पापुलर फ्रंट ऑफ इंडिया सहित लव जेहाद व धर्मांतरण कराने में सक्रिय इसके जिम्मेबार व्यक्तियों पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा कर कड़ी कार्रवाई की जाये।
सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) (वीरेष त्यागी)
राष्ट्रीय महासचिव राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

प्रतिलिपि
माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार।

दीपावली, छठ पर्व एवं अन्य अवसरों पर पूरे देष में पटाखों की ब्रिकी व चलाने पर रोक लगाने के लिये अर्जुन गोपाल एवं अन्य द्वारा दायर की गई याचिका का विरोध करने व याचिकाकर्ताओं द्वारा हिन्दू परंपराआें को रोकने हेतु बार-बार याचिका दायर करने के उद्देष्यों की जांच कराने हेतु।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार
साउथ ब्लॉक, नई दिल्ली-110011

विषयः दीपावली, छठ पर्व एवं अन्य अवसरों पर पूरे देष में पटाखों की ब्रिकी व चलाने पर रोक लगाने के लिये अर्जुन गोपाल एवं अन्य द्वारा दायर की गई याचिका का विरोध करने व याचिकाकर्ताओं द्वारा हिन्दू परंपराआें को रोकने हेतु बार-बार याचिका दायर करने के उद्देष्यों की जांच कराने हेतु।

महोदय,

आपको ज्ञात है कि दीपावली एवं छठ पर्व हिन्दुस्तान के 100 करोड़ हिन्दुओं का अति महत्वपूर्ण पर्व है। हमारी परंपरा है कि इस अवसर पर हिन्दू दीये जलाते हैं और पटाखे चलाते हैं। पटाखे चलाने में बच्चों की खास रूचि होती है। दीपावली के दिन पटाखे फोड़ने की परंपरा अति प्राचीन है। जब भगवान राम रावण का अंत कर अयोध्या लौटे थे, उस खुषी में यह त्यौहार पहली बार मनायी गयी थी। अब प्रत्येक वर्ष मनायी जाती है।
समाचारपत्रों से ज्ञात हुआ है कि अर्जुन गोपाल सहित तीन बच्चों द्वारा माननीय उच्चतम न्यायानय के समक्ष एक याचिका दायर की गई है, जिसके द्वारा पूरे देष में पटाखों की बिक्री व चलाने पर रोक लगाने की गुहार की गई है। दीपावली, छठ सहित सभी खुषी के मौकों पर पटाखा चलाने की परंपरा हमारे समाज में है। प्रदूषण का एक मात्र माध्यम पटाखा नहीं है।
सत्यता है कि पटाखों के अतिरिक्त कई अन्य माध्यमों से पर्यावरण में प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था के सुचारू नहीं होने से प्रदूषण ज्यादा बढ़ रहा है। बकरीद के दिन लाखों बकरों की बलि के कारण पर्यावरण को अत्यधिक नुकसान पहुंचता है। परन्तु इस पर केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का कभी ध्यान नहीं गया है। लाऊडस्पीकर से अजान पढ़ने के कारण बड़े स्तर पर ध्वनि प्रदूषण हो रहा है। परन्तु इसे आजतक नहीं रोका गया है।
हिन्दू विरोधी लोग लगातार हिन्दुओं के धार्मिक पर्वों व परंपराओं के साथ षड्यंत्र करते रहते हैं। बार-बार याचिका दायर कर हिन्दू त्योहारों पर आक्रमण हो रहा है। कभी दीपावली पर पटाखा बैन के लिये याचिका, कभी जलीकटटू पर रोक के लिये याचिका, कभी नदी में मूर्तियों के विसर्जन पर रोक के लिये याचिका। हमें डर है कि कभी याचिका दाखिल कर हिन्दुओं के पर्व-त्योहार मनाने पर भी रोक लगावायी जा सकती है।
आपसे अनुरोध है कि हिन्दुस्तान के 100 करोड़ हिन्दुओं की भावनाओं की रक्षा करने के लिये दीपावली, छठ पर्व एवं अन्य अवसरों पर पटाखों की बिक्री व चलाने पर रोक लगाने के लिये अर्जुन गोपाल एवं अन्य की उच्चतम न्यायालय में दायर याचिका का विरोध करने की कृपा करें। साथ-ही-साथ याचिकाकर्ताओं का पुलिस जांच कराकर यह पता लगाने की कृपा करें कि लगातार हिन्दू परंपराओं को रोकने के लिये याचिका दायर करने की पीछे उनका उदेष्य क्या है तथा उनके पीछे कौन-सी हिन्दू विरोधी शक्तियों का हाथ है।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाष कौषिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव

(वीरेष त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

दीपावली, छठ पर्व एवं अन्य अवसरों पर पूरे देष में पटाखों की ब्रिकी व चलाने पर रोक लगाने के लिये अर्जुन गोपाल एवं अन्य द्वारा दायर की गई याचिका को निरस्त करने व याचिकाकर्ताओं द्वारा हिन्दू परंपराआें को रोकने हेतु बार-बार याचिका दायर करने के उद्देष्यों की जांच कराने हेतु।

प्रतिष्ठा में,
माननीय मुख्य न्यायाधीष
भारत का उच्चतम न्यायालय।

विषयः दीपावली, छठ पर्व एवं अन्य अवसरों पर पूरे देष में पटाखों की ब्रिकी व चलाने पर रोक लगाने के लिये अर्जुन गोपाल एवं अन्य द्वारा दायर की गई याचिका को निरस्त करने व याचिकाकर्ताओं द्वारा हिन्दू परंपराआें को रोकने हेतु बार-बार याचिका दायर करने के उद्देष्यों की जांच कराने हेतु।

महोदय,

आपको ज्ञात है कि दीपावली एवं छठ पर्व हिन्दुस्तान के 100 करोड़ हिन्दुओं का अति महत्वपूर्ण पर्व है। हमारी परंपरा है कि इस अवसर पर हिन्दू दीये जलाते हैं और पटाखे चलाते हैं। पटाखे चलाने में बच्चों की खास रूचि होती है। दीपावली के दिन पटाखे फोड़ने की परंपरा अति प्राचीन है। जब भगवान राम रावण का अंत कर अयोध्या लौटे थे, उस खुषी में यह त्यौहार पहली बार मनायी गयी थी। अब प्रत्येक वर्ष मनायी जाती है।
समाचारपत्रों से ज्ञात हुआ है कि अर्जुन गोपाल सहित तीन बच्चों द्वारा माननीय उच्चतम न्यायानय के समक्ष एक याचिका दायर की गई है, जिसके द्वारा पूरे देष में पटाखों की बिक्री व चलाने पर रोक लगाने की गुहार की गई है। दीपावली सहित सभी खुषी के मौकों पर पटाखा चलाने की परंपरा हमारे समाज में है। प्रदूषण का एक मात्र माध्यम पटाखा नहीं है।
सत्यता है कि पटाखों के अतिरिक्त कई अन्य माध्यमों से पर्यावरण में प्रदूषण बढ़ता जा रहा है। सार्वजनिक परिवहन व्यवस्था के सुचारू नहीं होने से प्रदूषण ज्यादा बढ़ रहा है। बकरीद के दिन लाखों बकरों की बलि के कारण पर्यावरण को अत्यधिक नुकसान पहुंचता है। परन्तु इस पर केन्द्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड का कभी ध्यान नहीं गया है। लाऊडस्पीकर से अजान पढ़ने के कारण बड़े स्तर पर ध्वनि प्रदूषण हो रहा है। परन्तु इसे आजतक नहीं रोका गया है।
हिन्दू विरोधी लोग लगातार हिन्दुओं के धार्मिक पर्वों व परंपराओं के साथ षड्यंत्र करते रहते हैं। बार-बार याचिका दायर कर हिन्दू त्योहारों पर आक्रमण हो रहा है। कभी दीपावली पर पटाखा बैन के लिये याचिका, कभी जलीकटटू पर रोक के लिये याचिका, कभी नदी में मूर्तियों के विसर्जन पर रोक के लिये याचिका। हमें डर है कि कभी याचिका दाखिल कर हिन्दुओं के पर्व-त्योहार मनाने पर भी रोक लगावायी जा सकती है।
आपसे अनुरोध है कि हिन्दुस्तान के 100 करोड़ हिन्दुओं की भावनाओं की रक्षा करते हुए दीपावली, छठ पर्व सहित अन्य खुषी के अवसरों पर पटाखों की बिक्री व चलाने पर रोक लगाने के लिये अर्जुन गोपाल एवं अन्य की याचिका को तत्काल निरस्त करने की कृपा करें। साथ-ही-साथ याचिकाकर्ताओं का पुलिस जांच कराकर यह पता लगाने की कृपा करें कि लगातार हिन्दू परंपराओं को रोकने के लिये याचिका दायर करने की पीछे उनका उदेष्य क्या है तथा उनके पीछे कौन-सी हिन्दू विरोधी शक्तियों का हाथ है।
सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः9312177979

सूर्योपासना के महान छठ पर्व को राष्ट्रीय पर्व घोषित करने व इस अवसर पर 26 अक्टूबर, कार्तिक शुल्क षष्ठी के दिन पूरे देष में सार्वजनिक अवकाष घोषित करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार।

विषय :-सूर्योपासना के महान छठ पर्व को राष्ट्रीय पर्व घोषित करने व इस अवसर पर 26 अक्टूबर, कार्तिक शुल्क षष्ठी के दिन पूरे देष में सार्वजनिक अवकाष घोषित करने की मांग।
महोदय,
आपको ज्ञात है कि छठ पर्व भगवान सूर्य की आराधना का महान लोकपर्व है। यह बिहार, पूर्वांचल, झारखंड, दिल्ली के प्रमुख पर्वों में से एक है। देष के सभी प्रमुख शहरों में छठ पर्व मनाने वाले श्रद्धालु बड़ी संख्या में स्थायी रूप से निवास करते हैं। बिहार, झारखंड, दिल्ली में छठ पर्व के दिन सार्वजनिक अवकाष है। पूर्व में उत्तर प्रदेष में भी छठ पर्व के दिन सार्वजनिक अवकाष होती थी। परन्तु अब भाजपा सरकार ने अवकाष को समाप्त कर दिया है।
आपको ज्ञात है कि सूर्योपासना का सबसे महान पर्व छठ मनाना अत्यंत ही कठिन है। यह चार दिनों का पर्व है। यह पर्व 24 अक्टूबर कार्तिक शुल्क चतुर्थी को नहाय-खायं के साथ शुरू हो गई है । आज 25 अक्टूबर, कार्तिक शुक्ल पंचमी को सायं काल खरना की पूजा होगी। खरना की पूजा के साथ ही 36 घ्ांटें का निर्जला व्रत शुरू होगी, जो 27 अक्टूबर को प्रातः उदीयमान भगवान सूर्य को अर्ध्य देने के बाद समाप्त होगी। 26 अक्टूबर, कार्तिक शुल्क षष्ठी के सायंकाल नदी, तालाब आदि में खड़े होकर छठ व्रती अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को अर्ध्य देंगे। इस पर्व में प्रसाद भी घर में ही बनती है। स्वच्छता का विषेष ध्यान रखना पड़ता है। यह लोकपर्व स्वच्छता व सफाई को पवित्रता की ओर ले जाती है। यह समानता, सामूहिकता व महिला सषक्तीकरण का पर्व है। यह पर्व देष की संस्कृति व परंपराओ कें गौरव को बढाने वाला है।
अतः आपसे अनुरोध है कि छठ महापर्व को राष्ट्रीय पर्व घोषित करें तथा 26 अक्टूबर, कार्तिक शुक्ल षष्ठी के दिन छठ पर्व के अवसर पर सार्वजनिक अवकाष घोषित कर छठव्रतियों व श्रद्धालुओं को छठ पर्व मनाने में सहयोग करने की कृपा करें।
सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव, अखिल भारत हिन्दू महासभा
राष्ट्रीय अध्यक्ष, अखिल भारतीय प्रवासी महासभा

सूर्योपासना के महान छठ पर्व के अवसर पर 26 अक्टूबर, कार्तिक शुल्क षष्ठी के दिन सार्वजनिक अवकाष घोषित करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री आदित्यनाथ योगी जी,
माननीय मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश।

विषय :-सूर्योपासना के महान छठ पर्व के अवसर पर 26 अक्टूबर, कार्तिक शुल्क षष्ठी के दिन सार्वजनिक अवकाष घोषित करने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात है कि छठ पर्व भगवान सूर्य की आराधना का महान लोकपर्व है। यह बिहार, पूर्वांचल, झारखंड, दिल्ली के प्रमुख पर्वों में से एक है। नोएडा, ग्रेटर नोएडा, गाजियाबाद, कानपुर, इलाहाबाद, लखनऊ, बनारस, गोरखपुर साहित उत्तर प्रदेष के सभी प्रमुख शहरों में छठ पर्व मनाने वाले श्रद्धालु बड़ी संख्या में स्थायी रूप से निवास करते हैं। बिहार, झारखंड, दिल्ली में छठ पर्व के दिन सार्वजनिक अवकाष है। पूर्व में उत्तर प्रदेष में भी छठ पर्व के दिन सार्वजनिक अवकाष होती थी। परन्तु अब अवकाष को समाप्त कर दिया गया है। प्रदेष सरकार के इस आदेष के कारण अब उत्तर प्रदेष में छठ पर्व के दिन सार्वजनिक अवकाष नहीं है।
आपको ज्ञात है कि सूर्योपासना का सबसे महान पर्व छठ मनाना अत्यंत ही कठिन है। यह चार दिनों का पर्व है। यह पर्व 24 अक्टूबर कार्तिक शुल्क चतुर्थी को नहाय-खायं के साथ शुरू होगी । 25 अक्टूबर, कार्तिक शुक्ल पंचमी को सायं काल खरना की पूजा होगी। खरना की पूजा के साथ ही 36 घ्ांटें का निर्जला व्रत शुरू होगी, जो 27 अक्टूबर को प्रातः उदीयमान भगवान सूर्य को अर्ध्य देने के बाद समाप्त होगी। 26 अक्टूबर, कार्तिक शुल्क षष्ठी के सायंकाल नदी, तालाब आदि में खड़े होकर छठ व्रती अस्ताचलगामी भगवान सूर्य को अर्ध्य देंगे। इस पर्व में प्रसाद भी घर में ही बनती है। स्वच्छता का विषेष ध्यान रखना पड़ता है।
अतः आपसे अनुरोध है कि 26 अक्टूबर, कार्तिक शुक्ल षष्ठी के दिन छठ पर्व के अवसर पर सार्वजनिक अवकाष घोषित कर छठव्रतियों व श्रद्धालुओं को छठ पर्व मनाने में सहयोग करने की कृपा करें।
सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव, अखिल भारत हिन्दू महासभा
राष्ट्रीय अध्यक्ष, अखिल भारतीय प्रवासी महासभा

ताजमहल को तोड़कर तेजोमहालय शिव मंदिर बनाये उत्तर प्रदेश की सरकार, रामजन्म भूमि पर मंदिर का निर्माण संसद में कानून बनाकर शीघ्र होः हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 16 अक्टूबर 2017

ताजमहल को तोड़कर तेजोमहालय शिव मंदिर बनाये उत्तर प्रदेश की सरकार, रामजन्म भूमि पर मंदिर का निर्माण संसद में कानून बनाकर शीघ्र होः हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने उत्तर प्रदेश के महंत आदित्यनाथ योगी सरकार से मांग की है कि आगरा स्थित ताजमहल को तोड़कर तेजोमहालय शिव मंदिर बनाया जाये। उन्होंने कहा कि ताजमहल की जगह पूर्व में तेजोमहालय शिव मंदिर था। परन्तु शाहजहां ने उसे तोड़वाकर अपनी महबूबा मुमताज की याद में ताजमहल बनवा दिया। उन्होंने कहा कि यदि उसकी खुदाई कराकर पत्थरों की उम्र की जांच करायी जाये, तो स्पष्ट हो जायेगा कि बना हुआ ढ़ांचा ताजमहल से बहुत पहले का है। उन्होंने कहा कि मुस्लिम शासकों द्वारा हिन्दू मंदिरों को तोड़कर मस्जिद या मकबरों का निर्माण बड़े पैमाने पर किया गया था। लगभग 3000 बड़े मंदिरों को तोड़ा गया था। उन्होंने मुख्यमंत्री आदित्यनाथ से कहा है कि ताजमहल को तोड़कर मंदिर बनाने की प्रक्रिया शीघ्र शुरू की जाये।
उधर राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्र प्रकाष कौशिक ने कहा है कि अयोध्या स्थित भगवान राम के जन्मस्थान पर श्रीराम मंदिर का निर्माण संसद में विषेष कानून बनाकर शीघ्र किया जाये। उन्होंने कहा कि देश की जनता ने 2014 में भाजपा को वोट इसी उम्मीद से दिया था। परन्तु केन्द्र की भाजपा सरकार देश के 100 करोड़ हिन्दुओं को धोखा दे रही है।

(वीरेष त्यागी)
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री