All posts by NewWebsiteAdmin

जनसँख्या नियंत्रण पर बने कानून – वीरेश त्यागी, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री (अखिल भारत हिन्दू महासभा)

16 जनवरी 2019, हांसी

जनसँख्या नियंत्रण पर बने कानून – वीरेश त्यागी, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री (अखिल भारत हिन्दू महासभा)

WhatsApp Image 2019-01-16 at 12.05.43 PM(1)

राम मंदिर मुकदमे की सुनवाई में अड़ंगा लगाने की हिन्दू महासभा ने की आलोचना।

नई दिल्ली,10 जनवरी 2019

राम मंदिर मुकदमे की सुनवाई में अड़ंगा लगाने की हिन्दू महासभा ने की आलोचना।

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाष कौषिक एवं राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा ने उच्चमत न्यायालय में अयोध्या स्थित श्री रामजन्मस्थान मुकदमे की सुनवाई में सुन्नी बक्फ बोर्ड एवं कांग्रेस पार्टी के वकील राजीव धवन द्वारा बार-बार अडं़गे लगाने की तीव्र आलोचना की है। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि कभी अनुवाद के नाम पर, कभी संविधान पीठ के नाम पर और कभी किसी न्यायमूर्ति पर बेबुनियाद आरोप लगाकर सुनवाई की तारीख बार-बार आगे बढ़वाकर राजीव धवन देष के 100 करोड़ हिन्दुओं की भावनाआें के साथ खिलवाड़ कर रहें हैं। मर्यादा पुरूषोत्तम राम हिन्दुओं एवं हिन्दू राष्ट्र भारत की पहचान व प्ररेणाश्रोत हैं। वे भारतीय संस्कृति के प्रतीक हैं। उनके जन्मस्थान पर मंदिर बनाने में बाधा डालकर कांग्रेस पार्टी व सुन्नी वक्फ बोर्ड के वकील हिन्दुओं के साथ विष्वासघात कर रहे हैं। राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेष त्यागी एवं राष्ट्रीय प्रवक्ता पं0 प्रमोद जोषी ने कहा है कि विदेषी यात्रियों के ग्रथों, विवादित ढं़ाचे के उत्खनन से प्राप्त अवषेषों, तुलसीदास कृत दोहा शतक, 1936 में वक्फ के विधान में राम मंदिर को वक्फ संपति नहीं बनना, 1941 में फैजाबाद नजूल विभाग द्वारा श्रीराम जन्मभूमि मंदिर परिसर, रामकोट अयोध्या 67.77 एकड़ भूमि क्र. 583 में पंजीकृत करने, षिया या सुन्नी वक्फ बोर्ड द्वारा विवादित  भूमि के रख रखाव में कोई रूचि नहीं लेने तथा 19 जून 1949 को इस भूमि का ट्रस्ट श्रीपंचरामानंदीय निर्मोही अखाड़ा द्वारा पंजीकृत कराने आदि प्रमाणां से साबित होता है कि यह स्थान श्रीराम जन्म स्थान ही है।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महामंत्री

अंग्रेजी नववर्ष के बहिष्कार का हिन्दू महासभा ने किया आहवान

नई दिल्ली,24 दिसम्बर 2018

अंग्रेजी नववर्ष के बहिष्कार का हिन्दू महासभा ने किया आहवान

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाष कौषिक, राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा एवं राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेष त्यागी ने देषवासियों से अंग्रेजी नववर्ष के बहिष्कार का आहवान किया है। उन्होंने कहा है कि एक जनवरी अंग्रेजों का नववर्ष है, इसलिये भारतीयों को इसे नहीं मनाना चाहिए। अंग्रेजी नववर्ष का प्रचार-प्रसार भारतीय संस्कृति को नष्ट करनेवाला है। 25 दिसंबर से लेकर एक जनवरी तक शराब व नषा का प्रयोग अत्यधिक बढ़ जाता है, जिससे कारण इसका कुप्रभाव भारतीय युवाओं पर पड़ रहा है। 31 दिसंबर की रात महिलाओं से छेड़खानी एवं अपराध बढ़ जाता है। इसे रोकने के लिये पुलिस को कड़ी मराक्कत करनी पड़ती हैं। इसलिये अपराध और अपसंस्कृति को बढ़ावा देने के जिम्मेबार अंग्रेजी नववर्ष का बहिष्कार करना चाहिए। 31 दिसंबर को बम-पटाखों का प्रयोग भी बहुत होता है, जिसके कारण प्रदूषण का स्तर काफी बढ़ जाता है। हिन्दू महासभा नेताओं ने भारतीय गृहमंत्री से मांग की है कि ठंड़ के कारण बढ़ते प्रदूषण को और नहीं बढ़ने देने के लिये बम-पटाखों के प्रयोग पर कड़ी कारवाई की जाये। उन्होंने कहा कि पटाखों का 31 दिसंबर की परंपरा से कोई संबंध नहीं है। यह अंग्रेजी संस्कृति से जुड़ा भी नहीं है। इसलिये पटाखों के प्रयोग पर पाबंदी लगा दी जाये।

( वीरेष त्यागी )
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

मेघालय हाईकोर्ट न्यायाधीष के भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की वकालत का हिन्दू महासभा ने किया समर्थन, केन्द्र सरकार से कानून बनाने की मांग

नई दिल्ली, 14 दिसम्बर 2018

मेघालय हाईकोर्ट न्यायाधीष के भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की वकालत का हिन्दू महासभा ने किया समर्थन, केन्द्र सरकार से कानून बनाने की मांग

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा एवं राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेष त्यागी ने मेघालय हाईकोर्ट के न्यायाधीष न्यायामूर्ति एस.आर.सेन द्वारा भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की वकालत का पूर्ण समर्थन किया है तथा केन्द्र की राज्य सरकार से भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने के लिये संसद में शीघ्र कानून बनाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि न्यायामूर्ति एस.आर.सेन की यह बात सौ प्रतिषत सही है कि यदि भारत इस्लामिक देष बना तो यह भारत और पूरी दुनिया के लिये कयामत होगा। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि धर्मांतरण एवं लव जेहाद के द्वारा बड़े पैमाने पर हिन्दू लड़कियों का विवाह मुस्लिम युवकों से कराकर हिन्दू लड़कियों को बच्चे पैदा करने की मषीन बना दी जाती है। हर मुस्लिमों के कम-से कम 10-15 बच्चे होते हैं। इससे मुस्लिमों की जनसंख्या तेजी से बढ़ रही है। और हिन्दुओं का अनुपात घटता जा रहा है। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि जिस दिन भारत में मुस्लिम आबादी हिन्दुओं से अधिक हो जायेगी, उसी दिन भारत इस्लामिक देष बन जायेगा। हिन्दू महासभा नेताओं ने संसद में कानून बनाकर भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने, जनसंख्या नियंत्रण के लिये समान आचार संहिता लागू करने तथा एक विवाह और केवल दो बच्चे का कानून  बनाने की मांग की है। उन्होनें कहा कि कानून ऐसा हो, जिसमें दो से अधिक बच्चे पैदा करने वाले का मताधिकार समाप्त कर दिया जाये।

( वीरेष त्यागी )
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

राष्ट्रीय महामंत्री श्री मुन्ना कुमार शर्मा जी ने राम मंदिर विवाद व योगी सरकार द्वारा जिलों के नाम परिवर्तन पर अखिल भारत हिन्दू महासभा की राय प्रेस वार्ता के सम्मुख रख अपना हिंदुत्व के प्रति समर्पण व्यक्त किया

तृप्ति देसाई पूतना, भूमाता ब्रिगेड़ पूतना ब्रिगेड़ के समान-हिन्दू महासभा

नई दिल्ली,16 नवम्बर 2018

तृप्ति देसाई पूतना, भूमाता ब्रिगेड़ पूतना ब्रिगेड़ के समान-हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा है कि भगवान अयप्पा की मर्यादा को भंग करने का प्रयास करने वाली तथाकथित महिला तृप्ति देसाई पूतना के समान है तथा उसका भूमाता ब्रिगेड़ पूतना ब्रिगेड़ है। जिस प्रकार से पूतना ने भगवान कृष्ण की हत्या करने का प्रयास किया था, उसी प्रकार तृप्ति देसाई भगवान अयप्पा की मर्यादा को भंग करना चाहती है। अखिल भारत हिन्दू महासभा और अन्य हिन्दूवादी संगठनों के पदाधिकारी उसे ऐसा करने नहीं देंगे। भगवान अयप्पा बाल ब्रहमचारी थे, इसलिये माहवारी उम्र की महिलाओं को मंदिर के अंदर प्रवेष की अनुमति नहीं दी जा सकती है। श्री शर्मा ने कहा है कि चाहे पूतना तृप्ति देसाई हो या उसके जैसी कोई और भी पूतना महिलाओं के मंदिर के अंदर जाने की अनुमति कभी भी नहीं दी जायेगी। अगर ऐसी महिलाओं को मंदिर के अन्दर प्रवेष की अनुमति दी गई तो इससे भगवान अयप्पा और उनके करोड़ो भक्तों का अपमान होगा। उन्होंने कहा है कि हिन्दू महासभा के कार्यकर्ता और भगवान अयप्पा के भक्त मुस्तैदी से डटे हैं तथा तृप्ति जैसी किसी भी पूतना महिला का प्रवेष होने नहीं देंगे। हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने उच्चतम न्यायालय से अपने आदेष में परिवर्तन करने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि यदि उच्चतम न्यायालय अपने आदेष में परिवर्तन नहीं करे तो केन्द्र सरकार अध्यादेष लाकर उच्चतम न्यायालय के निर्णय को बदल दे।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव

फोनः9312177979

हिन्दू महासभा ने केन्द्र सरकार द्वारा तीन तलाक पर अध्यादेष पारित करने का समर्थन किया

नई दिल्ली,19 सितम्बर 2018

हिन्दू महासभा ने केन्द्र सरकार द्वारा तीन तलाक पर अध्यादेष पारित करने का समर्थन किया

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्र प्रकाष कौषिक, राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा एवं राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेष त्यागी ने केन्द्र की नरेन्द्र मोदी सरकार द्वारा तीन तलाक से संबंधित अध्यादेष को पारित करने का स्वागत किया है तथा कहा है कि हिन्दू महासभा इस अध्यादेष का पूर्ण समर्थन करेगी। हिन्दू महासभा नेताओें ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को धन्यवाद देते हुए कहा है कि इस अध्यादेष से मुस्लिम महिलाओं का शोषण बंद होगा। तलाक बिल को राज्यसभा में पारित नहीं होने देने के लिये कांग्रेस पार्टी की निन्दा की है। उन्हांने कहा है कि कांग्रेस पार्टी मुस्लिम महिलाओं के अधिकारों के प्रति गंभीर नहीं है। कांग्रेस पार्टी मुस्लिम कटटरपंथियों के इषारे पर काम करती है। इसीलिये तीन तलाक के बिल का विरोध कर रही है। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि मौलाना और मुस्लिम धर्मगुरू मुस्लिम महिलाओं का शोषण जारी रखना चाहते हैं । इसीलिये वे लोग तीन तलाक पर कोई कानून बनाने के पक्ष में नही हैं। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि  जब भारत के उच्चतम न्यायालय ने तीन तलाक को गैर-कानूनी घोषित किया है, उसकें बाद भी तीन तलाक के मामले समाप्त नहीं हुए हैं। सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के बाद भी तीन तलाक के सैकड़ों मामले हुए हैं। यह साबित करता है कि जब तक तीन तलाक पर कड़ा कानून नहीं बनेगा, तब तक मुस्लिम पुरूष तीन तलाक देते रहेंगे।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
महासचिव

बलात्कारी आसिफ खान (आषु भाई गुरू) लवजेहाद का सरगना है, आसिफ और उसके बेटे समर खान को फांसी दी जाये-हिन्दू महासभा

नई दिल्ली,12 सितम्बर 2018

बलात्कारी आसिफ खान (आषु भाई गुरू) लवजेहाद का सरगना है, आसिफ और उसके बेटे समर खान को फांसी दी जाये-हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा है कि बलात्कारी आसिफ खान ( आषु भाई गुरू) लवजेहाद  सरगना है। वह कथित हिन्दू बाबा बनकर लवजेहाद की फैक्ट्री चलाता है। उसने ज्योतिष,तंत्र-मंत्र, जादू-टोना एवं बीमारी को ठीक करने के नाम पर कई महिलाओं का शारीरिक शोषण किया है। इस घिनौने कार्य नें उसका बेटा समर खान उसमे बराबर जिम्मेदार है। दोनों पिता-पुत्रों का एक ही कार्य है हिन्दू लडकियों को फंसाना व उसका शारीरिक शोषण करना। पहले हिन्दू लड़कियों को बहला- फुसलाकर,जादू-टोना एवं बीमारी ठीक करने के नाम पर फंसाता है तथा उसका शारीरिक शोषण करता है। फिर बाद में उसका मुस्लिम पुरूषों से संपर्क करा देता है। यदि पुलिस उसकी कड़ाई और निष्पक्षता से जांच करे तो बड़े षडयंत्र का पर्दाफाष होगा।
अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने केन्द्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह से मांग की है कि हिन्दू विरोधी, राष्ट्रविरोधी, महिलाओं के शोषण बलात्कारी असिफ खान ( आषु भाई गुरू) और उसके बेटे समर खान के करतूतों की उच्च स्तरीय जांच करायी जाये तथा दोनां को फांसी पर लटकाया जाये।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
अखिल भारत हिन्दू महासभा
फोनः 9312177979

हिन्दू न्यायपीठ बनाने के मामले में हिन्दू महासभा ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में जमा कराया शपथपत्रः हिन्दू महासभा

हिन्दू न्यायपीठ बनाने के मामले में हिन्दू महासभा ने इलाहाबाद हाईकोर्ट में जमा कराया शपथपत्रः हिन्दू  महासभा
नई दिल्ली,12 सितम्बर 2018

अखिल भारत हिन्दू महासभा ने हिन्दू न्यायापीठ बनाने के मामले में चल रहे मुकदमें में इलाहाबाद उच्च न्यायालय में शपथ-पत्र जमा  कर दिया है। 11 सितम्बर की तारीख पर राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा स्वयं उपस्थित रहे तथा शपथ पत्र सौंपा। हिन्दू महासभा द्वारा नवनियुक्त हिन्दू न्यायाधीष डा‐ पूजा शकुन पांडेय ने भी न्यायालय में शपथ पत्र जमा करा दिया है। शपथ पत्र जमा कर अखिल भारत हिन्दू महासभा ने यह स्पष्ट कर दिया है कि हिन्दू न्यायापीठ एक कानूनी सहायता एवं मध्यस्थता केन्द्र के रूप  में कार्य करेगी। वहीं जब शरिया अदालतें चल रही हैं, तो हिन्दू न्यायापीठ में क्या आपति हो सकती है। शपथ पत्र में हिन्दू महासभा ने यह भी कहा है कि यदि हिन्दुस्तान से शरिया अदालतें बंद कर दी जाये, तो हिन्दू महासभा भी हिन्दू न्यायापीठ बनाना बंद कर देगी। हिन्दू महासभा ने कहा है कि गरीब हिन्दुओं को न्याय नहीं मिल पाता है। साथ-ही हिन्दुओं के लिये कोई कानूनी परामर्ष केन्द्र नहीं है, जिससे हिन्दुओं में आपसी  झगडे़ बढ़ रहे हैं। न्यायतंत्र महंगा भी है। जिस कारण हिन्दू न्यायपीठ गरीब हिन्दुओं को न्याय दिलाने के लिये आर्थिक व कानूनी सहयोग भी करेगी।

(वीरेष त्यागी)
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री