All posts by NewWebsiteAdmin

पाकिस्तान द्वारा पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी श्री कुलभूषण जाधव को दी गई फांसी की सजा से मुक्ति दिलाने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार।
साउथ ब्लॉक, नई दिल्ली-110011

विषय :-पाकिस्तान द्वारा पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी श्री कुलभूषण जाधव को दी गई फांसी की सजा से मुक्ति दिलाने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात है कि पाकिस्तान आतंकवाद की फैक्ट्री तथा निर्यातक है। भारत सहित पूरी दुनिया में आतंकियों की आपूर्ति करने वाला सबसे प्रमुख देश है। भारत के विरूद्ध तो हमेशा ही षड्यंत्र रचते रहता है। भारत के आरोपों को कमजोर करने के उदेश्य से भारत को बदनाम करने का प्रयास करते रहता है। भारत को बदनाम करने के उदेश्य से ही उसने भारतीय नौसेना के पूर्व अधिकारी श्री कुलभूषण जाधव का अपहरण कराया तथा अब पाकिस्तानी सैन्य अदालत ने उन्हें फांसी की सजा देने की घोषणा की हैं। अखिल भारत हिन्दू महासभा पाकिस्तान के इस घटिया हरकत का तीव्र विरोध करती हैं।
आपसे मांग है कि श्री कुलभूषण जाधव की फांसी का पाकिस्तान से तीव्र विरोध करें, श्री जाधव को फांसी से बचायें तथा पाकिस्तान को इस कायराना तथा भारत विरोधी हरकतों का करारा जवाब दें। यदि पाकिस्तान फांसी की सजा पर रोक नहीं लगाये तो पाकिस्तान से सभी प्रकार का कूटनीतिक संबंध समाप्त करें।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

हिन्दू महासभा ने पाकिस्तानी सैन्य अदालत द्वारा कुलभूषण जाधव को फांसी देने के निर्णय का किया तीव्र विरोध, कल पाकिस्तानी उच्चायुक्त को ज्ञापण सौंपेगी महासभा

नई दिल्ली, 11 अप्रैल 2017

हिन्दू महासभा ने पाकिस्तानी सैन्य अदालत द्वारा कुलभूषण जाधव को फांसी देने के निर्णय का किया तीव्र विरोध, कल पाकिस्तानी उच्चायुक्त को ज्ञापण सौंपेगी महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी कूलभूषण जाधव को पाकिस्तानी सैन्य अदालत द्वारा फांसी देने के निर्णय का तीव्र विरोध किया है तथा भारतीय प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से श्री जाधव को फांसी से बचाने तथा वापस भारत लाने की मांग की है। हिन्दू महासभा ने भारतीय प्रधानमंत्री मोदी को पत्र लिखकर कहा है कि पाकिस्तान श्री जाधव को तुरंत मुक्त कर भारत को सौंप दे, अन्यथा भारत सरकार पाकिस्तान से सभी प्रकार का कूटनीतिक संबंध समाप्त कर ले।
हिन्दू महासभा महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा है कि कल बुधवार, 12 अप्रैल को 12.00 बजे दिन में अखिल भारत हिन्दू महासभा का एक प्रतिनिधिमंडल पाकिस्तानी दूतावास जाकर पाकिस्तानी उच्चायुक्त अब्दुल बासित को एक ज्ञापन सौपेंगा तथा पूर्व भारतीय नौसेना अधिकारी कुलभूषण जाधव की फांसी की सजा को माफ करने तथा शीघ्र वापस भारत भेजने की मांग करेगा। श्री शर्मा ने बताया कि यदि श्री जाधव की फांसी की सजा को नहीं टाला गया, तो हिन्दू महासभा पाकिस्तानी दूतावास का घेराव करेगी। प्रतिनिधिमंडल में राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक, राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेश त्यागी, दिल्ली प्रदेशाध्यक्ष सुनील कुमार सहित हिन्दू महासभा के पदाधिकारी सम्मिलित रहेंगें।

मुन्ना कुमार शर्मा
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः09312177979

जेवर हवाईअड्डा का नाम वीर सावरकर के नाम पर, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत दिग्विजयनाथ के नाम पर तथा समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत अवैधनाथ के नाम पर रखने का अनुरोध।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार।
साउथ ब्लॉक, नई दिल्ली-110011

विषय :-जेवर हवाईअड्डा का नाम वीर सावरकर के नाम पर, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत दिग्विजयनाथ के नाम पर तथा समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत अवैधनाथ के नाम पर रखने का अनुरोध।

महोदय,

नोएडा, ग्रेटर-नोएडा एवं युमना एक्सप्रेस-वे औघोगिक प्राधिकरण क्षेत्र उŸार प्रदेश ही नहीं बल्कि संपूर्ण भारत वर्ष का सबसे प्रमुख औघोगिक क्षेत्र है। इस क्षेत्र के निकट जेवर में अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनने से न केवल गौतमबुद्धनगर क्षेत्र, बल्कि संपूर्ण उŸार प्रदेश का विकास तेजी से होगा। जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनाने की मंजूरी दिलाने के लिये अखिल भारत हिन्दू महासभा की ओर से धन्यवाद देता हूं।
कृपया निम्नलिखित मांगों पर शीघ्र कार्यवाही करने की कृपा करेंः-
1. स्वातंत्र्य वीर सावरकर अद्वितीय स्वंतत्रता सेनानी, क्रांतिकारियों के प्ररेणा श्रोत एवं अखंड हिन्दू राष्ट्र के प्रवर्तक थे। भारत की स्वतंत्रता में उनका योगदान अतुलनीय था। अतः देश के स्वतंत्रता सेनानियों, क्रांतिकारियों एवं हिन्दू राष्ट्रवादियों को सम्मान देने के लिये जेवर अतंरराष्ट्रीय हवाई अड्डा का नाम वीर सावरकर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा रखने की कृपा करें।
2. अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद मंहत दिग्विजयनाथ जी महान स्वंतत्रता सेनानी व हिन्दू राष्ट्रवादी संत थे। अयोध्या के श्रीराम जन्म स्थान मंदिर आंदोलन के जनक थे। हिन्दुओं के कल्याण के लिये उन्होंने संपूर्ण जीवन समर्पित कर दिये थे। अतः आपसे
अनुरोध है कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत दिग्विजयनाथ एक्सप्रेस-वे रखने की कृपा करें।
3. अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व सांसद मंहत अवैधनाथ जी महान हिन्दू राष्ट्रवादी संत थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन गरीबों, असहायों व हिन्दुआें के कल्याण में समर्पित कर दिया था। अतः आपसे अनुरोध है कि प्रस्तावित समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत अवैधनाथ पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे रखने की कृपा करें।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा का नाम वीर सावरकर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा हो-मुन्ना कुमार शर्मा

जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा का नाम वीर सावरकर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा हो-मुन्ना कुमार शर्मा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी तथा उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मंहत आदित्यनाथ योगी को पत्र लिखकर जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा का नाम वीर सावरकर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत दिग्विजय नाथ एक्सप्रेस-वे तथा समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का नाम महंत अवैधनाथ एक्सप्रेस-वे रखने की मांग की है। हिन्दू महासभा राष्ट्रीय महासचिव श्री शर्मा ने पत्र द्वारा कहा है कि नोएडा, ग्रेटर-नोएडा एवं युमना एक्सप्रेस-वे औघोगिक प्राधिकरण क्षेत्र उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि संपूर्ण भारत वर्ष का सबसे प्रमुख औघोगिक क्षेत्र है। इस क्षेत्र के निकट जेवर में अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनने से न केवल गौतमबुद्धनगर क्षेत्र, बल्कि संपूर्ण उत्तर प्रदेश का विकास तेजी से होगा। जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनाने की मंजूरी देने के लिये अखिल भारत हिन्दू महासभा की ओर से धन्यवाद देता हूं।
श्री शर्मा ने कहा कि स्वातंत्र्य वीर सावरकर अद्वितीय स्वंतत्रता सेनानी, क्रांतिकारियों के प्ररेणा श्रोत एवं अखंड हिन्दू राष्ट्र के प्रवर्तक थे। भारत की स्वतंत्रता में उनका योगदान अतुलनीय था। आप स्वयं भी सावरकर विचारों को मानने वाले हैं। अतः देश के स्वतंत्रता सेनानियों, क्रांतिकारियों एवं हिन्दू राष्ट्रवादियों को सम्मान देने के लिये जेवर अतंरराष्ट्रीय हवाई अड्डा का नाम वीर सावरकर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा रखें। हिन्दू महासभा नेता श्री शर्मा ने कहा कि अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद मंहत दिग्विजयनाथ जी महान स्वंतत्रता सेनानी व हिन्दू राष्ट्रवादी संत थे। अयोध्या के श्रीराम जन्म स्थान मंदिर आंदोलन के जनक थे। हिन्दुओं के कल्याण के लिये उन्होंने संपूर्ण जीवन समर्पित कर दिये थे। अतः आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत दिग्विजयनाथ एक्सप्रेस-वे रखें।
हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा कि अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व सांसद मंहत अवैधनाथ जी महान हिन्दू राष्ट्रवादी संत थे। उन्होंने अपना पूरा जीवन गरीबों, असहायों व हिन्दुआें के कल्याण में समर्पित कर दिया था। अतः प्रस्तावित समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत अवैधनाथ पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे रखें।

मुन्ना कुमार शर्मा
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः 09312177979

जेवर हवाईअड्डा का नाम वीर सावरकर के नाम पर, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत दिग्विजयनाथ के नाम पर तथा समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत अवैधनाथ के नाम पर रखने का अनुरोध।

प्रतिष्ठा में,
श्री आदित्यनाथ योगी जी,
माननीय मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश।

विषय :-जेवर हवाईअड्डा का नाम वीर सावरकर के नाम पर, आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत दिग्विजयनाथ के नाम पर तथा समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत अवैधनाथ के नाम पर रखने का अनुरोध।

महोदय,

नोएडा, ग्रेटर-नोएडा एवं युमना एक्सप्रेस-वे औघोगिक प्राधिकरण क्षेत्र उत्तर प्रदेश ही नहीं बल्कि संपूर्ण भारत वर्ष का सबसे प्रमुख औघोगिक क्षेत्र है। इस क्षेत्र के निकट जेवर में अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनने से न केवल गौतमबुद्धनगर क्षेत्र, बल्कि संपूर्ण उत्तर प्रदेश का विकास तेजी से होगा। जेवर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा बनाने की मंजूरी देने के लिये अखिल भारत हिन्दू महासभा की ओर से धन्यवाद देता हूं।
कृपया निम्नलिखित मांगों पर शीघ्र कार्यवाही करने की कृपा करेंः-
1. स्वातंत्र्य वीर सावरकर अद्वितीय स्वंतत्रता सेनानी, क्रांतिकारियों के प्ररेणा श्रोत एवं अखंड हिन्दू राष्ट्र के प्रवर्तक थे। भारत की स्वतंत्रता में उनका योगदान अतुलनीय था। आप स्वयं भी सावरकर विचारों को मानने वाले हैं। अतः देश के स्वतंत्रता सेनानियों, क्रांतिकारियों एवं हिन्दू राष्ट्रवादियों को सम्मान देने के लिये जेवर अतंरराष्ट्रीय हवाई अड्डा का नाम वीर सावरकर अंतरराष्ट्रीय हवाईअड्डा रखने की कृपा करें।
2. अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व राष्ट्रीय अध्यक्ष एवं पूर्व सांसद मंहत दिग्विजयनाथ जी महान स्वंतत्रता सेनानी व हिन्दू राष्ट्रवादी संत थे। अयोध्या के श्रीराम जन्म स्थान मंदिर आंदोलन के जनक थे। हिन्दुओं के कल्याण के लिये उन्होंने संपूर्ण जीवन समर्पित कर दिये थे। वे आपके दादागुरू भी हैं। अतः आपसे अनुरोध है कि आगरा-लखनऊ एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत दिग्विजयनाथ एक्सप्रेस-वे रखने की कृपा करें।
3. अखिल भारत हिन्दू महासभा के पूर्व राष्ट्रीय महासचिव व पूर्व सांसद मंहत अवैधनाथ जी महान हिन्दू राष्ट्रवादी संत थे। वे आपके पूज्यनीय गुरू हैं। उन्होंने अपना पूरा जीवन गरीबों, असहायों व हिन्दुआें के कल्याण में समर्पित कर दिया था। अतः आपसे अनुरोध है कि प्रस्तावित समाजवादी पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे का नाम मंहत अवैधनाथ पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे रखने की कृपा करें।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा दसवीं और बारहवीं कक्षाओं में विद्यार्थियों को प्रमाण-पत्र अंग्रेजी में भरकर दिया जाना ।

प्रतिष्ठा में,
श्री प्रकाश जावड़ेकर जी,
माननीय मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार
शास्त्री भवन, डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद मार्ग, नई दिल्ली-110001

विषय :- केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा दसवीं और बारहवीं कक्षाओं में विद्यार्थियों को प्रमाण-पत्र अंग्रेजी में भरकर दिया जाना ।

महोदय,
यह देखने में आ रहा है कि विगत अनेक वर्षों से केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड द्वारा दसवीं और बारहवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों को दिए जाने वाले प्रमाण-पत्र हिंदी में भी अंग्रेजी के साथ छपे हैं, किन्तु उनमें विद्यार्थी का नाम, पिता का नाम, माता का नाम, विषय केवल अंग्रेजी में कम्प्यूटरों से भरे जाते हैं । आश्चर्य की बात है कि कम्प्यूटरों से होने वाले काम अंग्रेजी के साथ हिंदी में नहीं किए जा रहे और अनेक बार के अनुरोधों के बावजूद कुछ कुतर्कों का आधार लेकर संघ की राजभाषा हिंदी की उपेक्षा की जा रही है । सब जानते हैं कि कम्प्यूटर अब लिप्यंतरण के साथ-साथ अनुवाद भी कर सकते हैं और कर रहे हैं । यह भी सब जानते हैं कि भारतीय रेलों के प्रतिदिन लगभग 1.5 लाख आरक्षण चार्ट कम्प्यूटरों से हिंदी में भी यानि द्विभाषिक रूप में बन रहे हैं ।
बोर्ड का यह कुतर्क है कि विद्यार्थियों के नाम अंग्रेजी में ही मिलते हैं, इसलिए अनेक नागरीकरण में गलतियाँ हो सकती हैं । इस स्थिति से बचने के लिए यह सुझाव दिया जाता रहा है कि विद्यार्थियों से देवनागरी में भी फॉर्म में नाम भरने का प्रावधान किया जाए । देखना यह है कि बोर्ड कब तक हिंदी की अन्देखी करता रहेगा और अपनी हठधर्मी का बचाव करता रहेगा ।
अब आप मानव संसाधन विकास मंत्री हैं, इसलिए विश्वास है कि बोर्ड की तहत
हठधर्मिता ठीक कर दी जाएगी । इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें। सादर,

भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) संपादक
(वीरेश त्यागी) प्रबंध संपादक

पूरे देश में कानून-व्यवस्था व शांति व्यवस्था को सुदृढ़ करने, महिलाओं के सम्मान की रक्षा करने तथा हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं की रक्षा करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार।
साउथ ब्लॉक, नई दिल्ली-110011

विषय :-पूरे देश में कानून-व्यवस्था व शांति व्यवस्था को सुदृढ़ करने, महिलाओं के सम्मान की रक्षा करने तथा हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं की रक्षा करने की मांग।

महोदय,

संपूर्ण देश की कानून-व्यवस्था एवं शांति-व्यवस्था को सुदृढ़ करने, महिलाओं के सम्मान की सुरक्षा करने व हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं की रक्षा करने के लिये निम्नलिखित मांगां पर शीघ्र कार्यवाही करने की कृपा करेंः-
1. सभी बूचड़खानों को तत्काल बंदकर पशुओं की जान को सुरक्षित किया जाये।
2. बीफ निर्यात की आड़ में गौमांस निर्यात को पूरी तरह से रोकने का कार्य करें। ज्ञात हो कि कई मांस निर्यातकों द्वारा बीफ निर्यात की आड़ में गौमांस का निर्यात किया जा रहा है। यह खुलासा मीडिया के माध्यम से हो चुका है।
3. शिक्षण संस्थानों, मंदिरों व रिहाईशी क्षेत्रों से कम-से-कम 500 मीटर की दूरी पर ही मांस बिक्री की अनुमति दी जाये। पुराने नियमों को समाप्त कर नए नियम शीघ्र बनाये जायें तथा अधिकारियों को नये नियम का कड़ाई से पालन करने का आदेश दें। जो अधिकारी हिन्दुओं की भावनाओं के साथ खिलवाड़ करें, उनपर कड़ी कार्रवाई की जाये।
4. भगवान राम जन्म स्थान पर मंदिर निर्माण, श्री कृष्ण जन्म स्थान पर मंदिर निर्माण व काशी विश्वनाथ मंदिर के निर्माण की प्रक्रिया को तत्काल शुरू किया जाये। इस कार्य के लिये संसद में कानून बनाने व जमीन अधिग्रहण की प्रक्रिया तुरन्त शुरू की जाये।
5. संपूर्ण देश में पूर्ण शराबबंदी शीघ्र लागू की जाये।
6. हिन्दू धार्मिक कार्यक्रमों, उत्सवों, कथाओं व रामलीलाओं-कृष्णलीलाओं के आयोजन के लिये प्रशासनिक अनुमति की प्रक्रिया को सरल बनाया जाये।
7. गौहत्या पर पूरे देश में पूर्ण प्रतिबंध लगायें तथा गौहत्या के लिये मृत्युदंड का प्रावधान करें।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा दसवीं और बारहवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों को दिए जाने वाले प्रवेश-पत्र ‘क’ और ‘ख’ क्षेत्रों में हिंदी में न होना ।

प्रतिष्ठा में,
श्री प्रकाश जावडे़कर जी,
माननीय मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार
शास्त्री भवन, डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद मार्ग, नई दिल्ली-110001

विषय :- केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड के द्वारा दसवीं और बारहवीं कक्षाओं के विद्यार्थियों को दिए जाने वाले प्रवेश-पत्र ‘क’ और ‘ख’ क्षेत्रों में हिंदी में न होना ।

महोदय,
निवेदन है कि केन्द्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड नई दिल्ली द्वारा दसवीं और बारहवीं कक्षाओं की परीक्षाओं के प्रवेश-पत्र अंग्रेजी में जारी किए जाते हैं । इनकी संख्या संभवतः एक वर्ष में 18-20 लाख होती होगी । राजभाषा नियमों में उल्लिखित ‘क’ और ‘ख’ क्षेत्रों में ये प्रवेश-पत्र हिंदी में होने चाहिए, किन्तु बोर्ड की ओर से देशभर में ये केवल अंग्रेजी में जारी किए जाते हैं । इस प्रकार बोर्ड के द्वारा संघ की राजभाषा हिंदी की उपेक्षा तो हो ही रही है और राजभाषा नियमों का भी उल्लंघन हो रहा है ।
अतः सुझाव है कि दृ
1. ‘क’ और ‘ख’ क्षेत्रों में ये हिंदी में जारी किए जाएँ ।
2. विकल्पतः पूरे देश में द्विभाषिक रूप में जारी किए जाएँ ।

बोर्ड का यह तर्क होगा कि विद्यार्थियों के नाम उन्हें देवनागरी में नहीं मिलते, इसलिए अंग्रेजी में ही जारी करना जरूरी है । इस संबंध में सुझाव है कि फॉर्म भरे जाते समय प्रत्येक विद्यार्थी से उसका नाम देवनागरी में भी लिखवाने का प्रावधान कर दिया जाए । उल्लेखनीय है कि बोर्ड की ओर से एक वर्ष में लगभग 18-20 लाख प्रवेश-पत्र जारी होते हैं, जबकि भारतीय रेलों की तरफ से प्रतिदिन लगभग 1.5 लाख आरक्षण चार्ट द्विभाषिक रूप में तैयार होते हैं यानि एक वर्ष में लगभग 5 करोड़ आरक्षण चार्ट हिंदी में भी बनते हैं । अतः बोर्ड को नए-नए बहाने खोजने के बजाय व्यवस्था परिवर्तन करके देश की राजभाषा हिंदी को सम्मानजनक स्थान देकर अपने को धन्य करना चाहिए ।
खोजने के बजाय व्यवस्था परिवर्तन करके देश की राजभाषा हिंदी को सम्मानजनक स्थान देकर अपने को धन्य करना चाहिए । इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें । सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) संपादक
(वीरेश त्यागी) प्रबंध संपादक

उच्चतम न्यायालय द्वारा राममंदिर विवाद में समझौते के प्रस्ताव का स्वागत, मुख्य न्यायाधीश की मध्य स्थता में हो वार्ता-हिन्दू महासभा

उच्चतम न्यायालय द्वारा राममंदिर विवाद में समझौते के प्रस्ताव का स्वागत, मुख्य न्यायाधीश की मध्य स्थता में हो वार्ता-हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक, राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेश त्यागी एवं राष्ट्रीय प्रवक्ता पं0 प्रमोद जोशी ने उच्चतम न्यायालय द्वारा राम मंदिर विवाद में मध्यस्थता के प्रस्ताव का स्वागत किया है। उन्होनें कहा है किः-

1. 23 मार्च 1528 से पूर्व से मंदिर अधिपती श्री पंच रामानंदिय निर्माही आखाड़ा, रामघाट, अयोध्या 1885, से सिविल सूट लड़ रहे हैं।
2. 23/24 दिसंबर 1949, अयोध्या आंदोलन में अखिल भारत हिन्दू महासभा से जुड़े श्री पंच रामानंदिय निर्माही आखाड़े के छह महंतों पर श्री राम जन्मभूमि मंदिर में मूर्तियां रखने का अभियोग चला और वह निर्दोष छूटे थे।
3. 1962/63 सुन्नी वक्फ बोर्ड ने हिन्दू महासभा पर मूर्तियां रखने का आरोप लगाकर निकालने की याचिका लगाई थी तब ब्रहमलीन मंहत परमंहस रामचंद्रदास जी महाराज ने श्री पंच रामानंदिय निर्मोंही आखाड़े के पक्ष में कोर्ट मे साक्ष्य दी थी।
4. श्री पंच रामानंदिय निर्माही आखाड़ा के राष्ट्रीय उपसरंपच महंत श्री दिनेंद्रदास महाराज ने होटल विश्वनाथ लखनऊ में हाशीम अंसारी के साथ समझौता किया था तब भाजपाईयों ने विरोध करते हुए असमय चौरासी कोसी यात्रा सपा से मिलकर निकालने का प्रयास किया था। उसे अखिल भारत हिन्दू महासभा ने विरोध कर रूकवाई थी।
5. मा. सर्वोच्च न्यायालय ने हिन्दू महासभा, निर्माही आखाड़ा और सुन्नी वक्फ बोर्ड को समझौते का प्रस्ताव दिया है। इसका हिन्दू महासभा स्वागत करती है, परंतु मा. मुख्य न्यायाधीश की मध्यस्थता महत्वपूर्ण होगी। मध्यस्थता में समझौता वार्ता हो। यदि सभी वादी सहमत न हों तो उच्चतम न्यायालय प्रतिदिन सुनवाई कर शीघ्र निर्णय दें या संसद द्वारा विशेष कानून बनाकर मंदिर का निर्माण तुरन्त हो।

वीरेश त्यागी
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

प्रधानमंत्री व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर बीफ की बिक्री व निर्यात पर रोक लगाने की मांग

नोएडा, 06 अप्रैल 2017

प्रधानमंत्री व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर बीफ की बिक्री व निर्यात पर रोक लगाने की मांग

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री मंहत आदित्य नाथ योगी को पत्र लिखकर बीफ की बिक्री व निर्यात पर पूर्ण प्रतिबंध लगाने की मांग की है। पत्र के माध्यम से श्री शर्मा ने गौत्या के लिये मृत्युदंड का प्रावधान करने व संपूर्ण देश में गौहत्या पर पूर्ण पाबंदी लगाने के लिये कड़ा कानून बनाने की मांग की है। उन्होंने पत्र द्वारा अवगत कराया है कि बीफ निर्यातकों द्वारा चोरी-छिपे गौमांस का निर्यात घड़ल्ले से जारी है। उसे तत्काल रोकने की आवश्यकता है। ऐसे निर्यातकों पर गौहत्या का मुकदमा चलाया जाये तथा उसका लाइसेंस हमेशा के लिये समाप्त कर दिया जाये। श्री शर्मा ने प्रधानमंत्री से अयोध्या स्थित भगवान राम जन्म स्थान पर भव्य मंदिर बनाने के लिये संसद में विशेष कानून बनाने व मंदिर का निर्माण शीघ्र कराने की मांग की है। उन्होंने प्रधानमंत्री से तीन तलाक, हलाला व बहु विवाह पर तुरन्त प्रतिबंध लगाने व देश में एक समान नागरिक कानून बनाने की मांग की है। हिन्दू महासभा महासचिव श्री शर्मा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से उŸार प्रदेश में सभी बूचड़खानों को तत्काल बंद करने, मंदिर, शिक्षण संस्थान और सार्वजनिक स्थानों से कम-से-कम 500 मीटर की दूरी पर ही मांस बिक्री की अनुमति देने तथा हिन्दू धार्मिक उत्सवों, कथाओं, रामलीलाओं, कृष्णलीलाओं के आयोजन के लिये प्रशासनिक अनुमति की प्रक्रिया को सरल बनाने की मांग की हैं। श्री शर्मा ने गौतमबुद्ध नगर जिला प्रशासन द्वारा 100 मीटर की दूरी पर मांस की बिक्री की अनुमति देने की जांच कराने व दोषी अधिकारियों पर कार्रवाई करने की मांग की हैं।

मुन्ना कुमार शर्मा
राष्ट्रीय महासचिव