All posts by NewWebsiteAdmin

अखिल भारत हिन्दू महासभा ने नई दिल्ली स्थित जंतर-मंतर पर तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम-बंगाल सरकारों की हिन्दू विरोधी एवं राष्ट्रविरोधी नीतियों के विरोध में विशाल धरना-प्रर्दशन का आयोजन किया

news 31-07-2017

तमिलनाडु जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी सरकारों को बर्खास्त किया जाये-हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 31 जुलाई 2017

तमिलनाडु जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी सरकारों को बर्खास्त किया जाये-हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा ने नई दिल्ली स्थित जंतर-मंतर पर तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम-बंगाल सरकारों की हिन्दू विरोधी एवं राष्ट्रविरोधी नीतियों के विरोध में विशाल धरना-प्रर्दशन का आयोजन किया एवं तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी प्रदेश सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने से संबंधित मांगां का ज्ञापन भारत के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री एवं गृहमंत्री को सौंपा। धरना-प्रदर्शन में अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक, राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा, राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेश त्यागी, तमिलनाडु प्रदेशाध्यक्ष के. राजशेखर, दिल्ली प्रदेशाध्यक्ष सुनील कुमार, एस.तुलकापियन, वीजीधनलक्ष्मी, कुमुदाश्रीधरन, परमशिवम, विजय कुमार सहित सैंकडों हिन्दू महासभा कार्यकर्ता उपस्थित थे।
सर्वप्रथम सैकडों हिन्दू महासभा कार्यकर्ता नारे लगाते हुए जंतर-मंतर पंहुचे। तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल सरकार को बर्खास्त करो, राष्ट्रपति शासन लागू करो। हिन्दू विरोधी गतिविधियों को बंद करो आदि नारे लगाये गये। अपने संबोधन में राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाश कौशिक ने कहा कि कुछ प्रदेशों में आई.एस की गतिविधियाँ बढ़ गई हैं। वहां राष्ट्रविरोधी कार्य हो रहे हैं। इसे तत्काल रोकने की आवश्यकता है। राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने केन्द्र सरकार से तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की राष्ट्रविरोधी सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग की है। तमिलनाडु प्रदेशाध्यक्ष के.राजशेखर ने कहा कि तमिलनाडु में आई.एस व हिन्दू विरोधी शाक्तियों की गतिविधियां बढ़ती जा रही हैं। परन्तु प्रदेश सरकार कोई कार्यवाही नहीं कर रही है।

(वीरेश त्यागी)
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी एवं राष्ट्रविरोधी प्रदेश सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार
नॉर्थ ब्लॉक, नई दिल्ली-110001

विषयः-तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी एवं राष्ट्रविरोधी प्रदेश सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात हो कि भारत के तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल राज्यों में राष्ट्रविरोधी एवं हिन्दू विरोधी गातिविधियां बढ़ती जा रही हैं। आई.एस व भारत विरोधी आंतकी गिरोहों की गतिविधि लगातार बढ़ रही है। परन्तु इन राज्यों की राज्य सरकारें ऐसे राष्ट्रविरोधी तत्वों पर कार्रवाई करने के बदले उलटा उन्हीं तत्वों को बढ़ावा दे रही है। राष्ट्रहित व हिन्दू हित में निम्नलिखित निर्णय लेने की कृपा करेंः-
1. तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की राज्य सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू किया जाये।
2. तमिलनाडू, जम्मू-कश्मीर, केरल, पश्चिम बंगाल सहित देश के अन्य भागों में आई.एस व भारत विरोधी अलगाववादियों की गतिविधियों पर तत्काल अंकुश लगया जाये।
3. आई.एस. व अलगाववादियों को समर्थन व सहयोग देने वाले लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाये।
4. अलगाववाद को सहयोग देने वाले व फंडिग करने वाले लोगों पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज किया जाये।
5. सेना व अर्द्धसैनिक बलों को आतंकवाद को कुचलने की पूरी छूट दी जाये।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) (मुन्ना कुमार शर्मा) (वीरेश त्यागी) (के.राजशेखर)
राष्ट्रीय अध्यक्ष राष्ट्रीय महासचिव राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री प्रदेशाध्यक्ष तमिलनाडु

तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी एवं राष्ट्रविरोधी प्रदेश सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री रामनाथ कोविंद जी,
माननीय भारत के राष्ट्रपति
राष्ट्रपति भवन, नई दिल्ली

विषयः-तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी एवं राष्ट्रविरोधी प्रदेश सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात हो कि भारत के तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल राज्यों में राष्ट्रविरोधी एवं हिन्दू विरोधी गातिविधियां बढ़ती जा रही हैं। आई.एस व भारत विरोधी आंतकी गिरोहों की गतिविधि लगातार बढ़ रही है। परन्तु इन राज्यों की राज्य सरकारें ऐसे राष्ट्रविरोधी तत्वों पर कार्रवाई करने के बदले उलटा उन्हीं तत्वों को बढ़ावा दे रही है। राष्ट्रहित व हिन्दू हित में निम्नलिखित निर्णय लेने की कृपा करेंः-
1. तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की राज्य सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू किया जाये।
2. तमिलनाडू, जम्मू-कश्मीर, केरल, पश्चिम बंगाल सहित देश के अन्य भागों में आई.एस व भारत विरोधी अलगाववादियों की गतिविधियों पर तत्काल अंकुश लगया जाये।
3. आई.एस. व अलगाववादियों को समर्थन व सहयोग देने वाले लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाये।
4. अलगाववाद को सहयोग देने वाले व फंडिग करने वाले लोगों पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज किया जाये।
5. सेना व अर्द्धसैनिक बलों को आतंकवाद को कुचलने की पूरी छूट दी जाये।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री
(के.राजशेखर) प्रदेशाध्यक्ष तमिलनाडु

तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी एवं राष्ट्रविरोधी प्रदेश सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार।
साउथ ब्लॉक, नई दिल्ली-110011

विषयः-तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की हिन्दू विरोधी एवं राष्ट्रविरोधी प्रदेश सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू करने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात हो कि भारत के तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल राज्यों में राष्ट्रविरोधी एवं हिन्दू विरोधी गातिविधियां बढ़ती जा रही हैं। आई.एस व भारत विरोधी आंतकी गिरोहों की गतिविधि लगातार बढ़ रही है। परन्तु इन राज्यों की राज्य सरकारें ऐसे राष्ट्रविरोधी तत्वों पर कार्रवाई करने के बदले उलटा उन्हीं तत्वों को बढ़ावा दे रही है। राष्ट्रहित व हिन्दू हित में निम्नलिखित निर्णय लेने की कृपा करेंः-
1. तमिलनाडु, जम्मू-कश्मीर, केरल एवं पश्चिम बंगाल की राज्य सरकारों को बर्खास्त कर राष्ट्रपति शासन लागू किया जाये।
2. तमिलनाडू, जम्मू-कश्मीर, केरल, पश्चिम बंगाल सहित देश के अन्य भागों में आई.एस व भारत विरोधी अलगाववादियों की गतिविधियों पर तत्काल अंकुश लगया जाये।
3. आई.एस. व अलगाववादियों को समर्थन व सहयोग देने वाले लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाये।
4. अलगाववाद को सहयोग देने वाले व फंडिग करने वाले लोगों पर राष्ट्रद्रोह का मुकदमा दर्ज किया जाये।
5. सेना व अर्द्धसैनिक बलों को आतंकवाद को कुचलने की पूरी छूट दी जाये।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री
(के.राजशेखर) प्रदेशाध्यक्ष तमिलनाडु

स्वयंभू, भूमाफिया व भारत सरकार की बिजली चोरी करने वाले तथा एनडीएमसी के बकाया बिजली बिल का गबन करने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को सुरक्षा न देने तथा मुकदमा दर्ज करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार
नॉर्थ ब्लॉक, नई दिल्ली-110001

विषयः- स्वयंभू, भूमाफिया व भारत सरकार की बिजली चोरी करने वाले तथा एनडीएमसी के बकाया बिजली बिल का गबन करने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को सुरक्षा न देने तथा मुकदमा दर्ज करने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात हो कि अपने को अखिल भारत हिन्दू महासभा व सन्त महासभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बताने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव एक फर्जी, भूमाफिया, एनडीएमसी का लाखों रूपये का बिजली चोरी करने वाले स्वयंयू फर्जी संत हैं। अवैध उगाही व हिन्दू विरोधी तथा समाज विरोधी कार्यों में लिप्त रहते हैं। इनके गलत कार्यों के कारण हिन्दू समाज बदनाम हो रहा है। उनकी देश तथा विदेश के मुस्लिम संगठन से सांठ-गांठ है। ये इन भारत विरोधी संगठनों से मिलकर हिन्दू विरोधी तथा राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त रहते है। परन्तु दुर्भाग्य की बात है कि ऐसे घोटालेबाज, समाज विरोधी, राष्ट्रविरोधी व्यक्ति पर भारत सरकार द्वारा सुरक्षा के नाम पर लाखों रूपये खर्च करने की तैयारी चल रही है। यह व्यक्ति माननीय न्यायालय को भी गुमराह कर रहा है। अभी उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल किया है। कुछ दिन पूर्व तक भारत सरकार द्वारा उन्हें भारी सुरक्षा मिली हुई थी। परन्तु सुरक्षा का फायदा उठाकर गलत कार्यो में लिप्त रहे हैं। उपर्युक्त तथ्यों का संज्ञान लेते हुए निम्नलिखित मांगों पर शीघ्र कार्यवाही करने की कृपा करेंः-
1. स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को भारत सरकार द्वारा कोई सुरक्षा न दी जाये।
2. सरकार को गुमराह कर सुरक्षा प्राप्त करने की जांच करायी जाये।
3. नई दिल्ली नगर पालिका परिषद को बकाया बिजली बिल के रूप में चौदह लाख रूपये के गबन की जांच करायी जाये तथा बकाया बिजली बिल की उगाही करायी जाये।
4. स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव पर की जा रही धांधलियों व हिन्दू विरोधी, राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के लिये मुकदमा दर्ज किया जाये।
5. स्वामी चक्रपाणि की मुस्लिम संगठनों से गहरी सांठ-गांठ है। हो सकता है कि किसी राष्ट्रविरोधी संगठनों के साथ सांठ-गांठ कर फर्जी धमकी भरा पत्र या धमकी भरा फोन स्वयं ही भेजवा रहा हो, ताकि सुरक्षा-प्राप्त हो सके। इसलिये इस सांठ-गांठ की उच्चस्तरीय जांच करायी जाये तथा दोषी पाये जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाये।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

देशद्रोही याकूब मेमन का समर्थन करनेवाले गोपालकृष्ण गांधी को मत न देने का आहवान

भारतीय सांसदों को खुला पत्र
देशद्रोही याकूब मेमन का समर्थन करनेवाले गोपालकृष्ण गांधी को मत न देने का आहवान

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने भारतीय सांसदों को लिखे खुला पत्र के द्वारा आहवान किया है कि 1993 में देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को दहलानेवाले, सैकड़ों निर्दाष लोगों की जान लेनेवाले एवं सैकड़ों लोगों को घायल करने वाले देशद्रोही याकूब मेमन का समर्थन करने वाले पश्चिमबंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी को उपराष्ट्रपति के चुनाव में अपना बुहुमूल्य मत न दें । गोपाल कृष्ण गांधी ने याकूब मेमन को फांसी से बचाने के लिये मुहिम चलायी थी। उन्होंने पत्र लिखकर याकूब मेमन की फांसी की सजा माफ करने की अपील की थी। जबकि उन्हें अच्छी तरह से ज्ञात था कि 1993 में मुबंई को दहलाने में याकूब मेमन की मुख्य भूमिका थी। हिन्दू महासभा नेता श्री शर्मा ने देश के सभी लोकसभा सदस्यों एवं राज्यसभा सदस्यों से खुला पत्र लिखकर अपील की है कि आपलोग देश की 125 करोड़ जनता के प्रतिनिधि हैं तथा देश में लोकतंत्र के रक्षक हैं। आपका कर्तव्य है कि एक देशद्रोही व आतंकी सरगना को बचानेवाले व उससे हमदर्दी रखनेवाले को उपराष्ट्रपति जैसे महत्वपूर्ण व गारिमामयी पद पर आसीन होने से रोकें। अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा है कि बड़े आश्चर्य की बात है कि जहां एक तरफ बड़े गांधी ने देश की स्वतंत्रता के लिये अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले भगत सिंह, राजगुरू, सुखदेव, चंद्रशेखर आजाद जैसे क्रांतिकारियों की फांसी को रोकने का कोई प्रयास नहीं किया, वहीं दूसरी ओर छोटे गांधी ने देश के टुकड़े करने का षड्यंत्र रचनेवाले देशद्रोही व देश के दुश्मन याकूब मेमन की फांसी को रोकने का पूरा प्रयास किया। यह दोनों गांधी की दोहरीमानसिकता व सिद्धांतहीनता है।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः9312177979

स्वयंभू, भूमाफिया व भारत सरकार की बिजली चोरी करने वाले तथा एनडीएमसी के बकाया बिजली बिल का गबन करने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को सुरक्षा न देने तथा मुकदमा दर्ज करने की मांग।

प्रति,
गृहसचिव
भारत सरकार
नॉर्थ ब्लॉक, नई दिल्ली-110001

विषयः- स्वयंभू, भूमाफिया व भारत सरकार की बिजली चोरी करने वाले तथा एनडीएमसी के बकाया बिजली बिल का गबन करने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को सुरक्षा न देने तथा मुकदमा दर्ज करने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात हो कि अपने को अखिल भारत हिन्दू महासभा व सन्त महासभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बताने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव एक फर्जी, भूमाफिया, एनडीएमसी का लाखों रूपये का बिजली चोरी करने वाले स्वयंयू फर्जी संत हैं। अवैध उगाही व हिन्दू विरोधी तथा समाज विरोधी कार्यों में लिप्त रहते हैं। इनके गलत कार्यों के कारण हिन्दू समाज बदनाम हो रहा है। उनकी देश तथा विदेश के मुस्लिम संगठन से सांठ-गांठ है। ये इन भारत विरोधी संगठनों से मिलकर हिन्दू विरोधी तथा राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त रहते है। परन्तु दुर्भाग्य की बात है कि ऐसे घोटालेबाज, समाज विरोधी, राष्ट्रविरोधी व्यक्ति पर भारत सरकार द्वारा सुरक्षा के नाम पर लाखों रूपये खर्च करने की तैयारी चल रही है। यह व्यक्ति माननीय न्यायालय को भी गुमराह कर रहा है। अभी उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल किया है। कुछ दिन पूर्व तक भारत सरकार द्वारा उन्हें भारी सुरक्षा मिली हुई थी। परन्तु सुरक्षा का फायदा उठाकर गलत कार्यो में लिप्त रहे हैं। उपर्युक्त तथ्यों का संज्ञान लेते हुए निम्नलिखित मांगों पर शीघ्र कार्यवाही करने की कृपा करेंः-
1. स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को भारत सरकार द्वारा कोई सुरक्षा न दी जाये।
2. सरकार को गुमराह कर सुरक्षा प्राप्त करने की जांच करायी जाये।
3. नई दिल्ली नगर पालिका परिषद को बकाया बिजली बिल के रूप में चौदह लाख रूपये के गबन की जांच करायी जाये तथा बकाया बिजली बिल की उगाही करायी जाये।
4. स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव पर की जा रही धांधलियों व हिन्दू विरोधी, राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के लिये मुकदमा दर्ज किया जाये।
5. स्वामी चक्रपाणि की मुस्लिम संगठनों से गहरी सांठ-गांठ है। हो सकता है कि किसी राष्ट्रविरोधी संगठनों के साथ सांठ-गांठ कर फर्जी धमकी भरा पत्र या धमकी भरा फोन स्वयं ही भेजवा रहा हो, ताकि सुरक्षा-प्राप्त हो सके। इसलिये इस सांठ-गांठ की उच्चस्तरीय जांच करायी जाये तथा दोषी पाये जाने पर कड़ी कार्रवाई की जाये।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

देशद्रोही याकूब मेमन का समर्थन करनेवाले गोपालकृष्ण गांधी को समर्थन न देने का आहवान।

प्रतिष्ठा में,
1. श्रीमती सोनिया गांधी जी
राष्ट्रीय अध्यक्षा, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
2. श्री राहुल गांधी जी,
उपाध्यक्ष, भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस
3. श्री नीतिश कुमार जी,
अध्यक्ष, जनता दल यूनाइटेड
4. सुश्री ममता बनर्जी जी,
अध्यक्षा, तृणफल कांग्रेस
5. सुश्री मायावती जी,
अध्यक्षा, बसपा
6. श्री अखिलेश यादव जी
अध्यक्ष, समाजवादी पार्टी

विषयः देशद्रोही याकूब मेमन का समर्थन करनेवाले गोपालकृष्ण गांधी को समर्थन न देने का आहवान।

महोदय/महोदया,

आपको ज्ञात है कि 1993 में देश की आर्थिक राजधानी मुंबई को दहलानेवाले, सैकड़ों निर्दाष लोगों की जान लेनेवाले एवं सैकड़ों लोगों को घायल करने वाले देशद्रोही याकूब मेमन का समर्थन करने वाले पश्चिमबंगाल के पूर्व राज्यपाल गोपालकृष्ण गांधी को आप लोगां ने उपराष्ट्रपति के चुनाव में अपना संयुक्त प्रत्याशी बनाया है। गोपाल कृष्ण गांधी ने याकूब मेमन को फांसी से बचाने के लिये मुहिम चलायी थी। उन्होंने पत्र लिखकर याकूब मेमन की फांसी की सजा माफ करने की अपील की थी। जबकि उन्हें अच्छी तरह से ज्ञात था कि 1993 में मुबंई को दहलाने में याकूब मेमन की मुख्य भूमिका थी।
हमने सभी लोकसभा सदस्यों एवं राज्यसभा सदस्यों को खुला पत्र लिखकर अपील की है कि आपलोग देश की 125 करोड़ जनता के प्रतिनिधि हैं तथा देश में लोकतंत्र के रक्षक हैं। आपका कर्तव्य है कि एक देशद्रोही व आतंकी सरगना को बचानेवाले व उससे हमदर्दी रखनेवाले को उपराष्ट्रपति जैसे महत्वपूर्ण व गारिमामयी पद पर आसीन होने से रोकें। बड़े आश्चर्य की बात है कि जहां एक तरफ बड़े शांतिदूत मोहनचंद करमचंद गांधी ने देश की स्वतंत्रता के लिये अपना सर्वस्व न्यौछावर करने वाले भगत सिंह, राजगुरू, सुखदेव, चंद्रशेखर आजाद जैसे क्रांतिकारियों की फांसी को रोकने का कोई प्रयास नहीं किया, वहीं दूसरी ओर छोटे शांतिदूत गोपालकृष्ण गांधी ने देश के टुकड़े करने का षड्यंत्र रचनेवाले देशद्रोही व देश के दुश्मन याकूब मेमन की फांसी को रोकने का पूरा प्रयास किया। यह दोनों गांधी की दोहरीमानसिकता व सिद्धांतहीनता है।
आपसे अनुरोध है कि उपराष्ट्रपति के चुनाव में देशद्रोही याकूब मेमन का समर्थन करने वाले गोपालकृष्ण गांधी का समर्थन न करें। ताकि राष्ट्रविरोधियों का समर्थन करने वाले को सबक सिखाया जा सके। सादर,

भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः9312177979

स्वयंभू, भूमाफिया व भारत सरकार की बिजली चोरी करने वाले तथा एनडीएमसी के बकाया बिजली बिल का गबन करने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को सुरक्षा न देने तथा मुकदमा दर्ज करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री,
भारत सरकार।

विषयः- स्वयंभू, भूमाफिया व भारत सरकार की बिजली चोरी करने वाले तथा एनडीएमसी के बकाया बिजली बिल का गबन करने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को सुरक्षा न देने तथा मुकदमा दर्ज करने की मांग।

महोदय,
आपको ज्ञात हो कि अपने को अखिल भारत हिन्दू महासभा व सन्त महासभा का राष्ट्रीय अध्यक्ष बताने वाले स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव एक फर्जी, भूमाफिया, एनडीएमसी का लाखों रूपये का बिजली चोरी करने वाले स्वयंयू फर्जी संत हैं। अवैध उगाही व हिन्दू विरोधी तथा समाज विरोधी कार्यों में लिप्त रहते हैं। इनके गलत कार्यों के कारण हिन्दू समाज बदनाम हो रहा है। उनकी देश तथा विदेश के मुस्लिम संगठन से सांठ-गांठ है। ये इन भारत विरोधी संगठनों से मिलकर हिन्दू विरोधी तथा राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में लिप्त रहते है। परन्तु दुर्भाग्य की बात है कि ऐसे घोटालेबाज, समाज विरोधी, राष्ट्रविरोधी व्यक्ति पर भारत सरकार द्वारा सुरक्षा के नाम पर लाखों रूपये खर्च करने की तैयारी चल रही है। यह व्यक्ति माननीय न्यायालय को भी गुमराह कर रहा है। अभी उच्च न्यायालय में याचिका दाखिल किया है। कुछ दिन पूर्व तक भारत सरकार द्वारा उन्हें भारी सुरक्षा मिली हुई थी। परन्तु सुरक्षा का फायदा उठाकर गलत कार्यो में लिप्त रहे हैं। उपर्युक्त तथ्यों का संज्ञान लेते हुए निम्नलिखित मांगों पर शीघ्र कार्यवाही करने की कृपा करेंः-
1. स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव को भारत सरकार द्वारा कोई सुरक्षा न दी जाये।
2. सरकार को गुमराह कर सुरक्षा प्राप्त करने की जांच करायी जाये।
3. नई दिल्ली नगर पालिका परिषद को बकाया बिजली बिल के रूप में चौदह लाख रूपये के गबन की जांच करायी जाये तथा बकाया बिजली बिल की उगाही करायी जाये।
4. स्वामी चक्रपाणि उर्फ राजेश श्रीवास्तव पर की जा रही धांधलियों व हिन्दू विरोधी, राष्ट्रविरोधी गतिविधियों के लिये मुकदमा दर्ज किया जाये।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री