Daily Archives: March 2, 2017

हड़प्पा संस्कृति की धरोहर का अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल के रूप में विकास करने हेतु।

प्रतिष्ठा में,
डा. महेश शर्मा जी,
माननीय पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री (स्वतंत्र प्रभार), भारत सरकार
परिवहन भवन, संसद मार्ग, नई दिल्ली-110001

विषय :- हड़प्पा संस्कृति की धरोहर का अंतर्राष्ट्रीय पर्यटन स्थल के रूप में विकास करने हेतु।

महोदय,

यह सर्वविदित है कि मोहनजोदड़ो और हड़प्पा की जो वैदिक सभ्यता है, वह अब 8 से 10 हजार वर्ष पुरानी मानी जा रही है । इस सिंधु घाटी की सभ्यता के अवशेष अब हरियाणा और गुजरात में मिल रहे हैं । यह वैदिक-आर्य सभ्यता है । हरियाणा सरकार की ओर से हिसार के निकट राखीगढ़ी स्थान के विकास का प्रयास हो रहा है । यदि हरियाणा में स्थित इन पुरावशेषों के विकास और इन्हें पर्यटन स्थल बनाने में केन्द्रीय सरकार का भी सहयोग हो जाए तो साल दो साल में इन क्षेत्रों में उल्लेखनीय संख्या में देशी और विदेशी पर्यटक पहुँचने लगेंगे । यह भी आवश्यक होगा कि यात्रा मार्ग सुगम हों और बसों आदि की समुचित व्यवस्था भी हो जाए । कुछ स्थानों पर निवास के लिए सस्ते विश्राम-गृह भी सुलभ हो जाएँ तो यह स्वागत योग्य होगा । इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें ।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः 09312177979

Welcome to India Mr Trump (President of USA)

To,
His Excellency Mr. Donald Trump
President of
United states of America

Your excellency,

The President of USA, Mr Trump you have emerged as a hope for the world to survive. We fighting against polluted minds, massacring people, ruining the beautiful world invite you to India where millions will be inspired to be your co-fighters with the courage you fought the elections ignoring the risk of losing. No one else in world has ever dared to do that because they are politician but you are a real nationalist. We also congratulate you for banning the entry of people of six Muslims countries. We hope you will also ban the entry of people of Pakistan, a country of manufacturers of terrorism in the world.
With Regards,

(MUNNA KUMAR SHARMA)
National General Secretary
Phone: 09312177979

अभिव्यक्ति बनाम देशद्रोह।

प्रति,
सुश्री गुरमेहर कौर
पुत्री अमर शहीद कैप्टन मंदीप सिंह
लेडी श्रीराम कालेज फार वीमन, दिल्ली विश्वविद्यालय
लाला लाजपत राय रोड, अमर कालोनी,
लाजपत नगर-4, नई दिल्ली-110024

विषयः-अभिव्यक्ति बनाम देशद्रोह।

दिल्ली के रामजस कॉलेज की चर्चा आजकल सुर्खियों में हैं। कुछ दिनों पहले जेएनयू में देशद्रोह के नारे लगाने वाले उमर खालिद को अपने शोध पर व्याख्यान देने के लिए बुलाया गया था। उमर खालिद के व्याख्यान का विरोध एबीवीपी द्वारा किया गया। साम्यवादी छात्र एबीवीपी के विरोध को गुंडई और खालिद के देशविरोधी नारों को अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता बता रहा हैं। भारत के अभिन्न अंग कश्मीर को आजाद करने की बात केवल पाकिस्तान समर्थक करते हैं। ऐसे में देशद्रोह के आरोप में जमानत पर रिहा खालिद को व्याख्यान के लिए बुलाना देशद्रोही को प्रोत्साहन देने के समान है। खालिद चाहे शैक्षिक रूप से कोई बहुत बड़ा बुद्धिजीवी भी हो तब भी देशद्रोही को किसी प्रकार की छूट नहीं होनी चाहिए। अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता को समझना अत्यन्त आवश्यक है। स्वामी दयानंद अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के बड़े पक्षधर थे। परंतु उन्होंने दो विशेष नियमों के पालन करने पर विशेष बल दिया था। प्रथम अभिव्यक्ति का उद्देश्य समाज सुधार होना चाहिए और दूसरा अभिव्यक्ति करने वाला व्यक्ति निष्पक्ष होना चाहिए। साम्यवादी हिन्दू समाज की मान्यताओं पर घटिया तरीके से समीक्षा करने को अभिव्यक्ति बताते हैं क्योंकि उनका उद्देश्य समाज सुधार नहीं अपितु गन्दगी फैलाना हैं। साम्यवादियों का दोगलापन देखिये एम.एफ. हुसैन द्वारा हिन्दू देवी देवताओं की अश्लील तस्वीरें बनाना उनके अनुसार अभिव्यक्ति है जबकि मुहम्मद साहिब का कार्टून बनाने वाले डेनिश पत्रकारों का ये लोग विरोध करते हैं क्योंकि वह धार्मिक असहिष्णुता हैं। उनके इस दोगले और विषैले प्रचार से कुछ युवा भ्रमित हो जाते हैं। यही साम्यवादियों का उद्देश्य होता है। इस विषैले प्रचार का प्रभाव देखिये। आपने एबीवीपी के विरोध में सोशल मीडिया में एक मुहीम चलाई है। आपके पिता ने कारगिल के युद्ध में अपना बलिदान देश के लिए पाकिस्तान समर्थित आतंकवाद के विरोध में दिया था। मेरे आपसे कुछ प्रश्न हैं। आशा हैं अपनी योग्यतानुसार निम्नलिखित प्रश्नों का उत्तर देंगीः-
1. क्या आप उमर खालिद के कश्मीर पर दिए गए बयान कि कश्मीर को चाहिए भारत से आजादी का समर्थन करती हैं?
2. क्या आप पाकिस्तान द्वारा कश्मीर में चलाई जा रही भारत विरोधी गतिविधियों का समर्थन करती हैं?
3. क्या आप यह मानती है कि भारत ने कश्मीर पर नाजायज कब्जा किया हुआ है?
4. क्या आप बुरहान वानी जैसी आतंकवादियों को शहीद अथवा आजादी के लिए संघर्ष करने वाला मानती हैं?
5. क्या आप आतंकवादियों और पाकिस्तान का समर्थन करने वाले कश्मीरी अलगाववादी नेताओं का समर्थन करती हैं?
6. क्या आप कश्मीरी पंडितों को दोबारा कश्मीर में न बसने देने के अलगाववादीयों की सोच का समर्थन करती हैं?
7. क्या आप उमर खालिद के अभिन्न मित्र देशद्रोही कन्हैया द्वारा भारतीय सैनिकों को बलात्कारी बताने वाले बयान का समर्थन करती हैं?
8. क्या आप कश्मीर में बलिदानी हुए सैनिकों को मारने वाले आतंकवादियों को आप आजादी का मसीहा, परवाना और संघर्ष करने वाला मानती हैं?
9. क्या आप पाकिस्तान में बैठकर देशविरोधी काम करने वाले हाफिज सईद और मुल्ला उमर के बयानों का वह समर्थन करती हैं?
10. क्या हमारे देश के वीर सैनिकों पर पत्थर मारने वालों को भटका हुआ युवक कहकर आप उनके कुकृत्य का समर्थन करती हैं?
अगर आप ऐसा नहीं मानती हैं तो आप एबीवीपी का विरोध क्यों कर रही हैं ? आपके पिता ने इस देश के लिए अपना बलिदान दिया था। और आप अपने पिता द्वारा दिए गए बलिदान को अपमानित करने का प्रयास कर रही हैं।
एबीवीपी देशद्रोही उमर खालिद, कन्हैया कुमार का विरोध कर रही हैं। और आप एबीवीपी का समर्थन करने के स्थान पर उन्हीं का विरोध करने बैठ गइंर् हैं। इससे आपकी बुद्धिमता कम आपका मानसिक अपरिपक्वता अधिक प्रतीत होती है।
आशा हैं आप हमारे प्रश्नों का उत्तर देंगी। सत्य-असत्य में भेद करना सीखेंगी। देशभक्त और देशद्रोही में अंतर करना सीखेंगी।

सधन्यवाद,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः 09312177979