Daily Archives: December 19, 2017

गुजरात व हिमाचल प्रदेश विधानसभा में भाजपा की जीत के लिये बधाई।

प्रतिष्ठा में,
1. श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार।
2. श्री अमित शाह जी,
राष्ट्रीय अध्यक्ष, भाजपा।

विषय :-गुजरात व हिमाचल प्रदेश विधानसभा में भाजपा की जीत के लिये बधाई।

महोदय,
आज गुजरात और हिमाचल प्रदेश विधानसभा चुनाव परिणाम जानकर हमें अति प्रसन्नता हुई है। दोनों विधानसभाओं में बहुमत प्राप्त करने के लिये आपको बहुत-बहुत बधाई।
आशा करते हैं कि आगे भी आपको चुनावों में सफलता प्राप्त होते रहेगी एवं राष्ट्र की प्रगति दिन दुगुने और रात चौगुने गति से बढ़ती रहेगी।

सादर,

भवदीय

(चन्द्रप्रकाष कौषिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव

पवित्र अमरनाथ गुफा के संबंध में दिये निर्णय को एनजीटी तुंरत वापस ले-अखिल भारत हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 14 दिसम्बर 2017

पवित्र अमरनाथ गुफा के संबंध में दिये निर्णय को एनजीटी तुंरत वापस ले-अखिल भारत हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा है कि पवित्र अमरनाथ गुफा में मंत्रोच्चार व प्रसाद चढ़ाने पर लगायी गई पांबदियों के संबंध में दिये निर्णय को राष्ट्रीय ग्रीन ट्रिब्यूनल तुंरत वापस ले। एनजीटी द्वारा मंत्रोच्चार, प्रसाद चढ़ाने, जयकारा लगाने पर लगी रोक हिन्दुओं की धार्मिक भावनाओं के साथ खिलवाड़ है। हिन्दुस्थान के 100 करोड़ हिन्दू इसे चुप-चाप नहीं देख सकते हैं। हिन्दू महासभा नेता श्री शर्मा ने कहा है कि पारिस्थितिकी व पर्यावरण संबंधी सभी समस्याओं के लिये केवल हिन्दू जिम्मेबार नहीं हैं। कभी पटाखे जलाने पर रोक तो कभी भस्म आरती पर पाबंदी, कभी जलाभिषेक पर पाबंदी आदि संबंधी फैसले विभिन्न न्यायालयों के रूटिन में सम्मिलित हो गया है। यह हिन्दू समाज को स्वीकार्य नहीं है। एनजीटी अपने निर्णय को तुंरत वापस ले, अन्यथा केन्द्र सरकार इस विषय में एक मजबूत कानून बनाकर पांबदियों को निष्प्रभावी करे। अखिल भारत हिन्दू महासभा महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने कहा है कि देष के हिन्दुओं ने हिन्दुत्व के मुदों पर 2014 में भाजपा को वोट दिया था। अब केन्द्र की भाजपा सरकार हिन्दू आस्थाओं पर की जा रही चोट पर तुंरत पाबंदी लगाकर हिन्दुओं की भावनाओं की रक्षा करे।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव
फोनः9312177979

हिमालय की चोटियों के नाम और उनकी जानकारी हाई स्कूल के भूगोल के पाठ्यक्रम में शामिल कराने का अनुरोध ।

प्रतिष्ठा में,
श्री प्रकाश जावड़ेकर जी,
माननीय मानव संसाधन विकास मंत्री, भारत सरकार
शास्त्री भवन, नई दिल्ली-110001

विषय :- हिमालय की चोटियों के नाम और उनकी जानकारी हाई स्कूल के भूगोल के
पाठ्यक्रम में शामिल कराने का अनुरोध ।

महोदय,

‘‘हिमालय का टिप-इन-टाप है तपोवन‘‘ नामक लेख में हिमालय के तपोवन क्षेत्र के विषय में कुछ जानकारी दी गई है । साथ-साथ हिमालय की 15 प्रसिद्ध चोटियों के नाम और उनकी समुद्रतल से ऊँचाई का विवरण भी दिया गया है ।

इस प्रसंग में यह वांछित प्रतीत होता है कि नगाधिराज हिमालय की चोटियों और कुछ तपोवन जैसे स्थलों के बारे में हाई स्कूल के भूगोल के पाठ्यक्रम में जानकारी दी जाए । इस विषय में जो भी अध्याय हो, उसमें सांस्कृतिक दृष्टि से हिमालय का वर्णन रहे और उसमें वहाँ की स्वच्छता के प्रति आदर का भाव भी परोक्ष रूप में रहे । हो सके तो राष्ट्र कवि डॉ. रामधारी सिंह दिनकर जी की ‘मेरे नगपति मेरे विशाल‘ कविता के भी कुछ अंश रहें ।
नेपाल में माउंट एवरेस्ट चोटी का नाम गौरीशंकर होता है, यह भी जाँचना आवश्यक है कि क्या माउंट एवरेस्ट और गौरीशंकर अलग-अलग चोटियाँ हैं अथवा गौरीशंकर चोटी का नाम ही माउंट एवरेस्ट हो गया है ।
वस्तुतः माउंट एवरेस्ट नाम में औपचारिकता है और समादर का भाव नहीं है, इसलिए नाम के सम्बंध में पुनर्विचार आवश्यक है । इस सम्बंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें ।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाष कौषिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव