Daily Archives: January 28, 2018

फिल्म ‘गॉड, सेक्स एंड ट्रुथ ‘ के आन लाइन प्रदर्षन को प्रतिबंधित करने की तथा फिल्म निर्माता रामगोपाल वर्मा पर मुकदमा दर्ज करने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार।

विषय :-फिल्म ‘गॉड, सेक्स एंड ट्रुथ ‘ के आन लाइन प्रदर्षन को प्रतिबंधित करने की तथा फिल्म निर्माता रामगोपाल वर्मा पर मुकदमा दर्ज करने की मांग।

महोदय,

आपको ज्ञात है कि फिल्ममेकर रामगोपाल वर्मा की फिल्म ‘ गॉड, सेक्स एंड ट्रुथ‘ का आनलाइन प्रदर्षन शुरू हो गया है। इस फिल्म के द्वारा महिलाओं की छवि को धूमिल किया जा रहा है तथा महिलाआें को नीचा दिखाया जा रहा है। यह महिलाओं का अपमान है। साथ-ही-साथ इस फिल्म के द्वारा समाज में फूहड़पन परोसा जा रहा है। इसका विषेष रूप से युवाओं पर बुड़ा असर पडे़गा और देष की सभ्यता-संस्कृति को नुकसान होगा।
अतः आपसे मांग है कि फिल्म निर्माता रामगोपाल वर्मा की फिल्म ‘ गॉड, सेक्स एंड ट्रुथ‘ को प्रतिबंधित किया जाये तथा राम गोपाल वर्मा पर मुकदमा दर्ज कर कड़ी कार्रवाई की जाये।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
अखिल भारत हिन्दू महासभा
फोनः9312177979

फिल्म ‘पद्मावत‘ के प्रदर्षन को प्रतिबंधित करने व हिन्दू इतिहास व संस्कृति के साथ खिलवाड़ को रोकने के लिये कड़ा केन्द्रीय कानून बनाने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार।

विषय :-फिल्म ‘पद्मावत‘ के प्रदर्षन को प्रतिबंधित करने व हिन्दू इतिहास व संस्कृति के साथ खिलवाड़ को रोकने के लिये कड़ा केन्द्रीय कानून बनाने की मांग।

महोदय,

आपको ज्ञात है कि फिल्म ‘पद्मावत‘ में रानी पद्मिनि के चरित्र को गलत तरीके से दिखाया गया है तथा अलाउददीन खिलजी का महिमामंडन किया गया है। इससे राजपूत समाज सहित हिन्दू भावनाओं का खिलवाड़ हुआ है। हिन्दू भावनाओं और भारतीय संस्कृति के साथ खिलवाड़ करना एक कानूनी अपराध है। यही करण है कि करणी सेना सहित हिन्दू समाज द्वारा इस फिल्म के प्रदर्षन का विरोध किया जा रहा है।
हिन्दू महासभा का मानना है कि हिन्दू इतिहास व संस्कृति के साथ छेड़-छाड़ की छूट नहीं दी जानी चाहिए। हिन्दू इतिहास व संस्कृति के साथ खिलवाड़ को रोकने के लिये कड़ा केन्द्रीय कानून शीघ्र बनाया जाना चाहिए।
अतः आपसे मांग है कि फिल्म ‘पद्मावत‘ के प्रदर्षन पर तत्काल प्रतिबंध लगायें तथा हिन्दू इतिहास व संस्कृति के साथ खिलवाड़ को रोकने के लिये कड़ा केन्द्रीय कानून शीघ्र बनायें।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री