Monthly Archives: April 2018

सलमान खान की सजा पर हिन्दू महासभा ने प्रसन्नता व्यक्त की, बरी हुए आरोपियों के विरूद्ध ऊंची अदालत में अपील करे राजस्थान सरकार :हिन्दू महासभा

नईदिल्ली, 05 अपै्रल 2018

सलमान खान की सजा पर हिन्दू महासभा ने प्रसन्नता व्यक्त की, बरी हुए आरोपियों के विरूद्ध ऊंची अदालत में अपील करे राजस्थान सरकार :हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाष कौषिक, राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा एवं राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री वीरेष त्यागी ने एक संयुक्त वक्तव्य के द्वारा काला हिरण षिकार केस में जोधपुर के सीजेएम देव कुमार खत्री द्वारा पांच वर्ष की सजा देने पर प्रसन्नता व्यक्त किया है तथा कहा है कि न्याय की जीत हुर्ह है। बिना प्रभाव या दबाब में आकर निर्णय देने के लिये सीजेएम देव कुमार खत्री बधाई के पात्र हैं।
वहीं हिन्दू महासभा नेताओं ने राजस्थान की वसुंधरा राजे सिंधिया सरकार से अभिनेता सैफ अली खान, अभिनेत्री नीलम, सोनाली, तब्बू, दुष्यंत सिंह सहित सभी बरी किये गये आरोपियों के विरूद्ध ऊंची अदालत में अपील करने की मांग की है। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि सलमान खान के साथ-साथ ये लोग भी काला हिरण षिकार के दोषी हैं। इसलिये इन्हें भी सजा मिलनी चाहिए। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि इस मामले में महासभा द्वारा विष्नोई समाज का पूरा सहयोग किया जायेगा।

(वीरेश त्यागी)
राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री

दलित संगठनों द्वारा जारी हिंसा को सरकार तुरन्त रोके : हिन्दू महासभा

नई दिल्ली, 03 अप्रैल 2018

दलित संगठनों द्वारा जारी हिंसा को सरकार तुरन्त रोके  : हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चन्द्रप्रकाष कौषिक एवं राष्ट्रीय महामंत्री मुन्ना कुमार शर्मा ने केन्द्र की राजग सरकार से एससी/एसटी एक्ट पर उच्चतम न्यायालय के निर्णय के उपरांत दलित संगठनों द्वारा जारी हिंसा को तुरन्त रोकने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि विरोध लोकतांत्रिक तरीके से होना चाहिए। एक लोकतांत्रिक समाज में हिंसा का कोई स्थान नहीं है। हिन्दू महासभा नेताओं ने दलित संगठनों से हिंसा का रास्ता छोड़ने का आहवान किया है। वहीं हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि उच्चतम न्यायालय को भारत की संसद द्वारा पारित कानून की समीक्षा नहीं करनी चाहिए। हमारे संविधान में संसद को कानून बनाने का अधिकार है। न्यायालय को उसकी समीक्षा नहीं करनी चाहिए। हिन्दू महासभा नेताओं ने कहा है कि न्यायालय को धर्म, जाति, भाषा आदि संवेदनषील मुद्दों में सोच-समझकर निर्णय देना चाहिए, ताकि किसी निर्णय या टिप्पणी से हिंसा को बढ़ावा न मिले।

(मुन्ना कुमार शर्मा)
राष्ट्रीय महासचिव