कर्मचारी राज्य बीमा निगम में राजभाषा नियमों की धज्जियाँ उड़ाया जाना और श्रमिकों को परेशान करना ।

प्रतिष्ठा में,
श्री बंडारू दत्तात्रेय जी,
माननीय श्रम एवं रोजगार मंत्री, भारत सरकार
श्रम शक्ति भवन, रफी अहमद किदवई मार्ग,
नई दिल्ली-110001

विषय :- कर्मचारी राज्य बीमा निगम में राजभाषा नियमों की धज्जियाँ उड़ाया जाना और श्रमिकों को परेशान करना ।

महोदय,

आपको ज्ञात हो कि कर्मचारी राज्य बीमा निगम का फार्म 1 (घोषणा प्रपत्र) और अस्थायी पहचान प्रमाण पत्र के फार्म विक्टोरिया काल की अंग्रेजी में उपलब्ध हैं ।
आपको ज्ञात हो कि राजभाषा नियमावली 1976 के नियम 11 के अनुसार सब फार्म हिंदी और अंग्रेजी में छपे होने/चक्रमुद्रित रूप में होने अनिवार्य हैं, जिनमें हिंदी ऊपर अथवा पहले होनी चाहिए । यह भी सब जानते हैं कि कर्मचारी राज्य बीमा निगम का मुख्य कार्य श्रमिकों और कम शिक्षित कर्मकारों से रहता है, जिनसे संबंधित कार्य हिंदी में (क और ख खेत्रों में) होना चाहिए। तथापि फार्म तक हिंदी में नहीं है और अंग्रेजी में देकर इनके द्वारा अंग्रेजी थोपने का पूरा प्रयत्न हो रहा है ।
निवेदन है कि इस विषय की जाँच गहराई से कराई जाए और गृह मंत्रालय, राजभाषा विभाग के दिनांक-22 अगस्त, 1989 के आदेश के अनुसार राजभाषा नियमों के उल्लंघन के विरुद्ध अनुशासन की कार्रवाई कराने के आदेश देने की कृपा करें । इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें ।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री