दहशतगर्दी की चपेट में दरगाहें ।

प्रतिष्ठा में,
श्री राजनाथ सिंह जी,
माननीय गृह मंत्री, भारत सरकार
नॉर्थ ब्लॉक, नई दिल्ली-110001

विषय :- दहशतगर्दी की चपेट में दरगाहें ।

महोदय,

टू फेसेज ऑफ इस्लाम के लेखक श्री रामिश सिद्दीकी के उक्त विषयक लेख में लेखक ने
कुछ महत्त्वपूर्ण तथ्यों की ओर ध्यान आकर्षित किया है, जो निम्नलिखित हैं –
1.    पाकिस्तान की बदहाली के लिए वही लोग जिम्मेदार हैं, जिन्होंने द्विराष्ट्र की सोच को हवा देते हुए पाकिस्तान निर्माण की मुहीम चलाई थी ।
2.    हिंसक पथ पर चल रहे मुसलमानों ने कुछ पाने के बजाय दूसरों की नजरों में सम्मान ही गँवाया है ।
लेखक ने पाकिस्तान में सूफी, शिया, लालशहवाज कलंदर की दरगाह पर हुए बम धमाके में कई दर्जन मुसलमानों के मारे जाने पर लेख में उक्त टिप्पणियाँ की हैं । शायद श्री सिद्दीकी कुछ दुखी हैं, परंतु यह नहीं भूलना चाहिए कि हिंदुस्थान में अनेक जेहादी आतंकवादी दरगाहों में और मस्जिदों में अड्डे बनाते हैं और अपने हिंसक कारनामों को अंजाम देते हैं । वहीं से उन्हें पनाह मिलती है । मदरसों में मुस्लिम बच्चों को इस्लामिक कट्टरता व राष्ट्रविरोधी गतिविधियों में संलिप्त होने की शिक्षा दी जाती है।
इसलिए यह बहुत आवश्यक है कि सरकार खानकाहों, दरगाहों व मदरसों पर पूरी निगरानी रखे ।आपसे निवेदन है कि विशेष प्रकोष्ठ बनाकर इन पर पूरी-पूरी निगरानी रखी जाए ।

इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें ।

सादर,

भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा)  राष्ट्रीय महासचिव

(वीरेश त्यागी)  राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री