दक्षिण सागर में चीन द्वारा बन रहे मिसाइल भंडार गृह पर सतर्क होने का सुझाव।

प्रतिष्ठा में,
श्री अरूण जेटली जी,
माननीय रक्षा मंत्री, भारत सरकार
साउथ ब्लॉक, नई दिल्ली-110011

विषय :- दक्षिण सागर में चीन द्वारा बन रहे मिसाइल भंडार गृह पर सतर्क होने का सुझाव।

महोदय,

समाचारों से यह पता चला है कि चीन ने बड़ी गोपनीयता और तीव्रगति से दक्षिण चीन सागर में कुछ कृत्रिम द्वीप बना लिए हैं और उन पर कई दर्जन भवन बनाने में जुटा हुआ है । इनमें प्रक्षेपास्त्र जमा होंगे, जिनका इस्तेमाल चीन हिन्दुस्थान सहित अन्य अनेक देशों के विरुद्ध कर सकेगा । द्वीपों पर हवाई पट्टियाँ भी बना ली गई हैं ।
प्रश्न उठते हैं कि हिन्दुस्थान का इस नई मुसीबत के प्रति क्या रुख है और केन्द्रीय सरकार कितनी शीघ्रता से इस मुसीबत से निपटने में सफल होगी ? हमारे देश की क्या रणनीति है और कैसे चीन की इस नई आफत से निपटा जाएगा ?
विश्वास है कि देश की केन्द्रीय सरकार रक्षात्मक कार्यकलापों से आश्वस्त करेगी । इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें ।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी)राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री