भारतीय रेल खानपान एवं पर्यटन निगम लिमिटेड (आई.आर.सी.टी.सी.) के कामकाज में हिंदी की उपेक्षा ।

प्रतिष्ठा में,
श्री सुरेश प्रभाकर प्रभु जी,
माननीय रेल मंत्री, भारत सरकार
रेल भवन, नई दिल्ली-110001

विषय :- भारतीय रेल खानपान एवं पर्यटन निगम लिमिटेड (आई.आर.सी.टी.सी.) के कामकाज में हिंदी की उपेक्षा ।

महोदय,

गृह मंत्रालय, भारत सरकार के आदेशों के अनुसार यह आवश्यक किया गया है कि सरकारी उपक्रमों, कार्यालयों आदि के नाम भारतीय/हिंदी में रखे जाएँ, इसके विपरीत भारतीय रेल की खानपान एवं पर्यटन निगम का नाम अंग्रेजी में रखा गया है, जोकि आपत्तिजनक है । भारत संचार निगम, महानगर टेलीफोन निगम आदि की तरह यह नाम हिंदी में/भारतीय रूप में होना चाहिए । इसमें संशोधन कराने की कृपा करें ।
उक्त निगम द्वारा ई-मेल टिकट विवरण हिंदी में भी प्राप्त होना चाहिए, मुद्रित टिकट पर यात्री का नाम, गाड़ी का नाम आरक्षण का प्रकार और श्रेणी आदि हिंदी में दी जानी चाहिए जैसे कि भारतीय रेल द्वारा प्रशंसनीय कार्य करके सारे देश में आरक्षण चार्ट हिंदी में भी प्रकाशित होते हैं ।
बीमा पालिसी का ई-मेल, उसका प्रलेख और लघु संदेश भी हिंदी में भेजे जाने चाहिए ।
कम्प्यूटर से दी जा रही सभी सेवाएँ एवं एप (।चच) हिंदी में भी होने चाहिएँ । विश्वास है कि जिस प्रकार भारतीय रेल को राष्ट्रपति जी ने हिंदी प्रयोग के लिए सम्मानित किया है, उस सम्मान की गरिमा रखते हुए उपरिलिखित सब कार्य इस वर्ष संवत् 2074 विक्रमी में हिंदी में हो जाएँगे । इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें ।

सादर,
भवदीय

(मुन्ना कुमार शर्मा) संपादक
(वीरेश त्यागी) प्रबंध संपादक