गोवध पर पूर्ण रोक लगाने की मांग।

प्रतिष्ठा में,
श्री राधा मोहन सिंह जी,
माननीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री, भारत सरकार
कृषि भवन, नई दिल्ली

विषय :- गोवध पर पूर्ण रोक लगाने की मांग।
महोदय,
संविधान में दिये प्रावधान में गो रक्षण, गो संवर्धन और दूध देने वाले पशुओं के वध का निषेध विषय सम्मिलित हैं । महापुरुष गो वंश के वध के निषेध के लिए प्रतिबद्ध रहे हैं । उपलब्ध आँकड़ों के अनुसार 1947 के पश्चात् गो वंश घटते-घटते संभवतः सौ करोड़ से लगभग डेढ़ करोड़ रह गया है । स्थिति स्पष्ट है,इसीलिए चिंतित शिया पर्सनल लॉ बोर्ड ने गो वंश वध का निषेध का प्रस्ताव लखनऊ में संभवतः दिनांक 5 अप्रैल, 2017 को पारित किया । गो वंश वध निशेष के पक्ष में मुसलमानों के अनेक समुदाय आगे आ रहे हैं, यह भगवान श्री कृष्ण की कृपा के फलस्वरूप है । कदाचित भगवान श्री कृष्ण केन्द्र की वर्तमान सरकार पार्टी को गो वंश और भैंस आदि दुधारू पशुओं के वध का निषेध संबंधी अधिनियम पारित करने का श्रेय देने के इच्छुक हैं, इसलिए अनुकूल आसार बन रहे हैं । अतः कृपया अविलंब चिरप्रतीक्षित अधिनियम पारित कराने की कृपा हिंदुस्थान पर करें । इस संबंध में की गई कार्रवाई की जानकारी भिजवाने का कष्ट करें ।

सादर,
भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक)राष्ट्रीय अध्यक्ष
(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव
(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री