हरियाणा में फिर ताक पर पहुँचा लोकतंत्र ।

प्रतिष्ठा में,
श्री नरेन्द्र मोदी जी,
माननीय प्रधानमंत्री, भारत सरकार।
साउथ ब्लॉक, नई दिल्ली-110011

विषय :- हरियाणा में फिर ताक पर पहुँचा लोकतंत्र ।

महोदय,
कृपया हरियाणा के संबंध में निम्नलिखित बिंदुओं का संदर्भ लेने का कष्ट करेंः-
1. हरियाणा तीसरी बार जल उठा, हर मौके पर मनोहरलाल खट्टर सरकार लाचार दिखी ।
2. नागरिक सुरक्षा के लिए प्रतिबद्ध सरकार (हरियाणा की) सोई हुई दिखी ।
3. पिछले अनुभवों से भी मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर कुछ सीख नहीं सके हैं ।
4. अपने नेताओं का विश्वास खोते रहे खट्टर की क्षमता पर जनता भी भरोसा करे तो क्यों और कैसे ?
5. पुलिस और सेना भी तब असरदार होती हैं जब राजनीतिक इच्छाशक्ति हो, इस मामले में तो वह शून्य दिखी है ।
6. जाट आरक्षण में 3-4 दिनों तक हरियाणा जलता रहा था, किसी तरह मामला सुलझा लेकिन खट्टर सीख नहीं ले पाए ।
7. भयावह हिंसा के लिए पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने मनोहरलाल सरकार को उचित फटकार लगाई ।
8. अगर कोई सरकार बारम्बार अराजकता के आगे असहाय दिखे तो फिर वह अपनी प्रतिष्ठा की रक्षा नहीं कर सकती ।
9. हरियाणा सरकार जिम्मेदारी के साथ जवाबदेही का भी परिचय देने में विफल साबित हुई है ।
10. अच्छा होगा कि खट्टर सरकार को लगी फटकार पर भाजपा सही से चिंतन-मनन करे ।
11. भाजपा सरकार की यह चौथी अग्नि परीक्षा थी, जिसमें वह खरा नहीं उतर सकी ।
12. पंचकुला में अगर भीड़ जमा नहीं होती तो हालात इतने नहीं बिगड़ते ।
13. कुल मिलाकर करौंथा आश्रम के संचालक रामपाल के गिरफ्तारी प्रकरण और राज्य में दो बार हुए जाट आरक्षण आन्दोलन के बाद यह चौथा मौका था तब प्रदेश के सीने को जख्म मिला है ।
14. हाई कोर्ट की पूर्ण पीठ ने हरियाणा सरकार को कड़ी फटकार लगाते हुए कहा कि राज्य सरकार ने महज अपने वोट बैंक के लिए डेरा समर्थकों के आगे एक तरह से समर्पण ही कर दिया था ।
इस प्रकरण में निवेदन है कि केन्द्रीय सरकार के गठन हेतु सन् 2019 में होने वाले आम चुनाव और हरियाणा में होने वाले अगले विधानसभा के चुनाव में जनता की प्रक्रिया का अनुमान हरियाणा सरकार के प्रदर्शन की पृष्ठभूमि में होना आवश्यक है । हरियाणा में नेतृत्व परिवर्तन से सम्भवतः जन-विश्वास के बहाल होने की सम्भावना बन सकती है ।
विश्वास है कि अविलम्ब निर्णय लेने की कृपा करेंगे ।

सादर, भवदीय

(चन्द्रप्रकाश कौशिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव

(वीरेश त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री