फिल्म ‘‘पद्मावती‘‘ से रानी पद्मिनि की नकारात्क भूमिका एवं अलाउदीन खिलजी के महिमामंडन को हटाने व भारतीय सेंसर बोर्ड से रिलीज की अनुमति लिये बिना विदेषों में फिल्म को रिलीज नहीं करने की मांग।

श्री संजय लीला भंसाली जी,

फिल्म निर्माता एवं निर्देषक

601/ बी, स्वाति मित्रा सीएचएस।

गुलमोहर क्रास, रोड़ न0-7, जेवीपीडी

स्कीम, अंधेरी वेस्ट, मुंबई-400049, महाराष्ट्र

विषय :- फिल्म ‘‘पद्मावती‘‘ से रानी पद्मिनि की नकारात्क भूमिका एवं अलाउदीन खिलजी के महिमामंडन को हटाने व भारतीय सेंसर बोर्ड से रिलीज की अनुमति लिये बिना विदेषों में फिल्म को रिलीज नहीं करने की मांग।

आपको ज्ञात है कि आपके द्वारा निर्मित फिल्म ‘पदमावती‘ का हिन्दू समाज विषेषकर राजपूत समाज द्वारा तीव्र विरोध किया जा रहा है। अभी फिल्म रिलीज नहीं हुई है, परन्तु इसके ट्रेलर को देखकर हिन्दू समाज में गुस्सा है। इस फिल्म में बहादुर रानी पद्मिनि के चरित्र को नकारात्मक रूप में दिखाया गया है। इस से हिन्दू समाज की वीर रानी पद्मिनि का अपमान हो रहा है। हिन्दुओं के साथ अपमानजनक व्यवहार करने वाले एवं हिन्दुओं का धर्मांतरन कराने वाले बादषाह अलाउद्दीन खिलजी का महिमामंडन किया जा रहा है। उसे एक बहादुर बादषाह के रूप में दिखाया जा रहा है। इन दोनों किरदारों की भूमिका से भारत के 100 करोड़ हिन्दुओं का अपमान हो रहा है। अखिल भारत हिन्दू महासभा को इस फिल्म के दृष्यों व सामग्री पर घोर आपिŸा है।
इस पत्र के माध्यम से आपसे मांग है कि फिल्म में आवष्यक बदलाव कर रानी पद्मिनि की नकारात्मक भूमिका एवं अलाउद्दीन खिलजी के महिमंडन को फिल्म से हटाये बिना तथा भारतीय सेंसर बोर्ड से फिल्म रिलीज की अनुमति लिये बिना विदेषों में भी फिल्म ‘पदमावती‘ को रिलीज न करें। अन्यथा अखिल भारत हिन्दू महासभा द्वारा आपकी आनेवाली सभी फिल्मों का बहिष्कार किया जायेगा तथा आपके विरूद्ध राष्ट्रीय जनांदोलन किया जायेगा।
धन्यवाद सहित,

भवदीय

(चन्द्रप्रकाष कौषिक) राष्ट्रीय अध्यक्ष

(मुन्ना कुमार शर्मा) राष्ट्रीय महासचिव

(वीरेष त्यागी) राष्ट्रीय कार्यालय मंत्री