मदरसों को प्रतिबंधित करे सरकार, फिल्म पद्मावती में यदि रानी पद्मिनी का चरित्र हनन हुआ तो होगा तीव्र विरोधः हिन्दू महासभा

नईदिल्ली, 30 दिसम्बर 2017

मदरसों को प्रतिबंधित करे सरकार, फिल्म पद्मावती में यदि रानी पद्मिनी का चरित्र हनन हुआ तो होगा तीव्र विरोधः हिन्दू महासभा

अखिल भारत हिन्दू महासभा के राष्ट्रीय महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने उŸारप्रदेष के मुख्यमंत्री आदित्यनाथ योगी से उŸारप्रदेष के सभी मदरसों को बंद करने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि मदरसों में लड़कियों का यौन शोषण किया जाता है तथा लड़कों को आंतकवाद की षिक्षा दी जाती है। इसके अलावा मदरसों में कोई तीसरा काम नहीं होता है। सरकार की जिम्मेबारी है कि लड़कियों को यौन शोषण से बचाये। मदरसों में षिक्षा के नाम पर देष तोड़ने तथा लड़कियों की जिंदगी बर्बाद करने का काम होता है। वहां ऐसी कोई भी पढ़ाई नहीं होती है, जिससे बच्चों को कोई रोजगार मिल सके। प्रदेष  सरकार का कर्तव्य है कि मदरसों को बच्चों की जिंदगी बर्बाद करने से रोका जाये। श्री शर्मा ने पत्र लिखकर देष के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मांग की है कि पूरे देष में मदरसों के संचालन पर रोक लगाया जाये। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान के सेना प्रमुख ने भी कहा है कि मदरसे आतंकवादी पैदा कर रहे हैं। इसलिये मुस्लिम बच्चों की जिंदगी को  बर्बाद होने से बचाने तथा मुस्लिम युवकों को कट्टरपंथी तथा आंतकवादी बनने से रोकने के लिये मदरसों को तत्काल प्रतिबंधित किया जाये।
अखिल भारत हिन्दू महासभा महासचिव मुन्ना कुमार शर्मा ने फिल्म पद्मावती  की सेंसर बोर्ड द्वारा रिलीज की अनुमति देने पर प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए कहा है कि यदि फिल्म द्वारा रानी पद्मिनी का चरित्रहनन हुआ तो अखिल भारत हिन्दू महासभा इसका तीव्र विरोध करेगी तथा देष में कहीं भी फिल्म को नहीं चलने देगी।

मुन्ना कुमार शर्मा
राष्ट्रीय महासचिव
मो. न0-9312177979